इस जनजाति के लोग दुनिया में सबसे खतरनाक माने जाते हैं, अपनी सुरक्षा के लिए रखते हैं Ak-47

लाइव सिटीज डेस्क : दुनियाभर में आज भी ऐसी कई जनजाति हैं, जो अपनी परंपरा, रहन-सहन और खान-पान को लेकर चर्चा में बने रहते हैं. ऐसी ही एक जनजाति है ‘मुर्सी’, जो पूर्वी अफ्रीका के इथोपिया में रहती है. दुनिया में इस जनजाति के लोगों को सबसे खतरनाक माना जाता है क्योंकि इनका मानना है ‘किसी को मारे बगैर जिंदा रहने से अच्छा है मर जाना.’

मुर्सी जनजाति का बसेरा साउथ इथोपिया और सूडान बॉर्डर



मुर्सी जनजाति का बसेरा साउथ इथोपिया और सूडान बॉर्डर स्थित ओमान वैली में है. इनकी कुल आबादी 10 हजार के करीब है. यह जनजाति अपनी परंपरा को भी लेकर चर्चा में बनी रहती है. लोगों की बुरी नजर से बचने के लिए बॉडी मॉडिफिकेशन प्रक्रिया के तहत इस जनजाति की महिलाओं के निचले होंठ में लकड़ी या मिट्टी की डिस्क पहनाई जाती है.

कबीले की लड़कियों को यह डिस्क पहनाई जाती है

15-16 साल की उम्र में कबीले की लड़कियों को यह डिस्क पहनाई जाती है. लिप-प्लेट के नाम से चर्चित इस बॉडी मॉडिफिकेशन के कारण यहां की महिलाएं दुनियाभर के पर्यटकों की नजर में आकर्षण का केंद्र बन चुकी हैं. अफ्रीका में अब मुर्सी, छाई और तिरमा जनजाति ही ऐसी हैं, जिसमें इस प्रथा का चलन अब भी जारी है.

महिलाओं के निचले होंठ में डिस्क लगाने का कारण

ऐसा माना जाता है कि जनजाति की महिलाओं के निचले होंठ में डिस्क लगाने का कारण उन्हें गुलाम खरीदने-बेचने वाले व्यापारियों से बचाना है. जनजाति के बुजुर्गों के मुताबिक ऐसा करने से महिलाओं की सुंदरता कम हो जाती है और वे कम आकर्षक दिखती हैं.

निचले होंठ को काट देते हैं

15-16 साल की उम्र में पहुंचने पर लड़की की मां कबीले की अन्य महिलाओं के साथ मिलकर उसके निचले होंठ को काट देते हैं. घाव पकने तक उसमें लकड़ी का टुकड़ा फंसाया जाता है. फिर कुछ महीनों बाद उसमें 12 सेंटीमीटर व्यास की डिस्क फंसा दी जाती है, जो कि जीवन पर्यंत उसके होंठ में लगी रहती है.

गाय का खून पीते हैं

मुर्सी जनजाति के लोग लड़ाई से पहले खूब गाय का खून पीते हैं, ताकी वो ज्यादा मोटे और ताकतवर बन सके और कबीले में अपना सम्मानजनक स्थान बना सकें. हालांकि, न्यू ईयर सेलिब्रेशन के दौरान भी लोग गाय का खून और दूध खूब पीते हैं.

महिलाओं के लिए आपस में डंडों से लड़ाई भी करते हैं

इसके अलावा इस जनजाति के पुरुष महिलाओं के लिए आपस में डंडों से लड़ाई भी करते हैं. ऐसा माना जाता है कि जो शख्स लड़ाई में जीतता है उसे सबसे सुंदर बीवी मिलती है. मुर्सी जनजाति के लोग आज भी अपनी परंपरा के अनुसार जीते हैं. लेकिन सुरक्षा के लिए इनके पास सारे आधुनिक हथियार हैं.

इनके पास Ak-47 तक है

बताया जाता है कि इनके पास Ak-47 तक है. पुराने मॉडल को ये लोग 8 से 10 गाय देकर खरीदते हैं, जबकि नया मॉडल 30-40 से गाय देकर खरीदते हैं. पड़ोसी देश सूडान और सोमालिया से इन्हें हथियार सप्लाई की जाती है.