दिघवारा-एकमा लूटकांड के मास्टरमाइंड सहित 6 गिरफ़्तार

छपरा/दिघवारा : छपरा सारण जिला पुलिस ने चर्चित दिघवारा और एकमा लूट कांड का खुलासा करते हुए उड़ीसा से सात लोगों को गिरफ्तार किया है. पुलिस कप्तान पंकज राज के नेतृत्व में हुई इस कार्रवाई को पुलिस बड़ी कामयाबी मान रही है.

खुलासा से जुड़ा मामला एकमा थाना क्षेत्र के छित्रवलिया ग्रामीण बैंक से कुछ माह पूर्व हुई छह लाख की लूट और दिघवारा थाना क्षेत्र के शीतलपुर में स्वर्ण व्यवसायी से सोना लूट और उसकी हत्या का है. उड़ीसा के संबलपुर में पुलिस ने सात अपराधियों को गिरफ्तार किया है. इनमें वीरेन्द्र सिंह उर्फ बिल्ला वर्तमान में बलिया जिले के बैरिया थाना के तुलसी बनई गांव में जितेन्द्र कुमार सिंह के साथ रहता है. जिन सात अपराधियों की गिरफ्तारी हुई है, ये सभी संबलपुर में डकैती की योजना बनाते पकड़े गये.

अपराधी अरुण साह ने जेल से ही ली थी सुपारी:-
एसपी ने पत्रकारों को बताया कि छपरा जेल में बंद अपराधी अरुण साह के द्वारा जेल से ही अतरराज्यीय गिरोह का संचालन किया जा रहा है. वह शहर के शिल्पी पोखरा का रहने वाला है. इसका मुख्य पेशा लूट, हत्या व डकैती है. एसपी ने बताया कि गत दिनों शहर के बर्तन व्यवसायी भोला प्रसाद की हत्या के लिये उसने सुपारी ली थी. पुलिस के पास इसका पुख्ता सबूत है. उन्होंने बताया कि टाउन थाना के सब इंस्पेक्टर श्रीचरण राम और दिघवारा थाना के सब इंस्पेक्टर राकेश कुमार को उड़ीसा भेजा गया था। इस अवसर पर सहायक पुलिस अधीक्षक मनीष, टाउन इंस्पेक्टर रवि कुमार शामिल थे.

छपरा जेल से ही हो रहा गिरोह का संचालन:-
छपरा जेल में बंद कुख्यात अपराधी अरुण साह ने ही बर्तन व्यवसायी भोला प्रसाद की हत्या के लिए एक जमीन व्यवसायी से सुपारी ली थी. इस बात का खुलासा एसपी ने किया है. अरुण सारण जिला के अलावा उड़ीसा, राजस्थान और यूपी में भी लूट और हत्याकांड का अंजाम पहले दे चुका है. फिलहाल वह जेल में बंद है और वहीं से अपने गिरोह का संचालन जेल से ही करता है. एसपी ने बताया कि जिन लोगों ने बर्तन व्यवसायी की हत्या करायी है, पुलिस ने उनकी भी पहचान कर ली है. जिस दिन रजिस्ट्री के लिये भोला प्रसाद ने रुपये दिये थे, उसी दिन रात में उनकी हत्या कर दी गई.

गिरफ्तार अपराधियों ने दानापुर में लूटी थी कार:-
इस गिरोह में शामिल अपराधी ने पटना के दानापुर में पिस्तौल के बल पर दानापुर के सगुना मोड़ के पास एक इंडिगो कार को लूट लिया था. चालक को कुछ दूर ले जाकर सड़क के किनारे छोड़ दिया और फिर बलिया में जितेन्द्र कुमार सिंह उर्फ जीतू के घर लेकर चला गया.

बलिया में बनी थी अपराध की योजना:-
अपराध की योजना बलिया में ही बनायी गयी कि ओडिशा के संबलपुर में लूटपाट करनी है. अपराधी गाड़ी लेकर संबलपुर निकल गये, जहां सोना लूटने की योजना थी, लेकिन इंडिगो गाड़ी रास्ते में ही कोरबा के समीप पलट गयी. इन अपराधियों ने गाड़ी को वहीं छोड़ दिया. आगे जाकर पिस्तौल के बल पर होंडा सिटी लूट ली. लूटी हुई होंडा सिटी लेकर बासना शहर चले गये. इसी बीच पिस्तौल चेक करने के दौरान गोली चल गयी और अपराधियों के एक साथी लाल सिंह को गोली लग गयी. इसके बाद सभी अपराधी छिपकर रहने लगे. फिर जब अपराध की योजना बना रहे थे कि तभी अपराधियों को पुलिस ने दबोच लिया.

इन अपराधियों की हुई है गिरफ्तारी:-
वीरेन्द्र सिंह वर्तमान में बलिया के बैरिया थाना के तुलसी बनरई गांव में रहता है. जितेन्द्र सिंह और रामजी सिंह-तुलसी बनरई. संतोष कुमार-बकाडिया काजी दानापुर. नौशाद अहमद अंसारी-बासडीह बलिया. मो अजहरूदीन-काजी दानापुर. विशाल सिंह उर्फ भोलू-सोनबर्षा बलिया.

chapra2

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*