लाइव सिटीज, पटना/अमित जायसवाल : शनिवार की शाम पटना पुलिस के पास 9th क्लास के स्टूडेंट को किडनैप किए जाने और उसे छोड़ने के एवज में 15 लाख रुपए की फिरौती मांगने का कंप्लेन आया था. मामला राजधानी के शास्त्रीनगर थाना का था. एसएसपी उपेंद्र कुमार शर्मा के निर्देश पर पटना पुलिस ने काफी तेजी से कार्रवाई की. पूरे 5 घंटे तक मैराथन काम हुआ. लेकिन इसके बाद जो असलियत सामने आई, उसने सबको हैरान कर दिया. रविवार को एसएसपी ने इस पूरे केस का खुलासा किया है.

एसएसपी के अनुसार स्टूडेंट ने अपने ममेरे भाई अमित के साथ मिलकर खुद के किडनैपिंग का प्लान रचा था. अपने ही मोबाइल नंबर से कॉल कर मां से 15 लाख रुपए की फिरौती मांगी थी. कभी परसा बाजार तो कभी पाटलिपुत्रा, स्टूडेंट लगातार अपना लोकेशन बदल रहा था. ताकि परिवार वालों को किडनैपिंग की ये कहानी सही लगे. पुलिस की ताबड़तोड़ छापेमारी में स्टूडेंट के तीन दोस्तों को पूछताछ के लिए उठा लिया गया था. जब पुलिस का प्रेशर बढ़ा तो फिर देर रात 11 बजे के करीब स्टूडेंट पटना जंक्शन के पास खुद सामने आ गया. इसने पहला कॉल अपनी मां को ही किया था. इसके बाद पुलिस ने उसे अपने कब्जे में ले लिया.

बाइक और जमीन खरीदने के लिए मांगी फिरौती

खुद की किडनैपिंग की पटकथा तैयार करने वाला स्टूडेंट मूल रूप से मुजफ्फरपुर के मोतिपुर का रहने वाला है. राजाबाजार के मछली गली में वो अपने मामा के साथ पटना में पिछले 4 महीने से रह रहा था. सितंबर महीने में ही उसने स्कूल में एडमिशन कराया था. पुलिस की पूछताछ में उसने खुलासा किया कि अगर 15 लाख रुपए उसे मिल जाते उसमें वो एक लाख रुपए ममेरे भाई अमित को दे देता. जबकि बाकि के रुपयों से वो बाइक और जमीन खरीदता. दरअसल, इस नाबालिक लड़के के पिता बेल्डर का काम करते हैं और रूस में रहते हैं. इसलिए उसे अच्छी तरह से मालूम था कि रुपए मांगने पर मिल जाएंगे. लेकिन हुआ उसके प्लान के ठीक उल्टा. स्टूडेंट लगातार अपने ही मोबाइल मां के नंबर पर कॉल कर रहा था और रुपए की डिमांड कर रहा था.

दर्ज हो गई रंगदारी का केस

किडनैपिंग की साजिश रचने वाले स्टूडेंट और इसका साथ देने वाले ममेरे भाई अमित को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. इन दोनों के खिलाफ शास्त्री नगर थाना में मां से रंगदारी मांगने का एफआईआर दर्ज की गई है. स्टूडेंट नाबालिग है, इसलिए उसे रिमांड होम भेजा जाएगा. जबकि अमित को पुलिस जेल भेजेगी.