मंगलवार को हुई पिटाई का अरशद ने गोलीमार कर लिया बदला, 2 साथियों समेत हुआ गिरफ्तार

लाइव सिटीज, पटना/अमित जायसवाल : सुधा बूथ संचालक विनय तिवारी की गोलीमार कर किये गए हत्या के मामले में पटना पुलिस ने तेजी से कार्रवाई की. वारदात को अंजाम देने वाले मो.अरशद और उसके दो साथियों को पटना पुलिस की टीम ने गिरफ्तार कर लिया है. पकड़े जाने के बाद मो.अरशद और उसके साथियों से पूछताछ की गई. तब पता चला कि 21 जुलाई की शाम मो. अरशद 100 रुपए का खुदरा विनय तिवारी से लिया था. लेकिन उस दौरान दोनों के बीच जोरदार बहस हुई थी.

इसके बाद गुस्से में आकर विनय तिवारी ने अरशद की पिटाई कर दी. उसे इतना पीटा की नाक से खून बहने लगा था. यह सबकुछ गाय घाट में पुल के नीचे स्थित सुधा बूथ के बाहर ही हुआ था. उसी दिन कुछ देर के बाद अरशद अपने साथिर्यों मो. राजा उर्फ बादशाह और मणि सहनी के साथ वहां दोबारा पहुंचा. इस बार विनय तिवारी ने इन तीनों को पीटा. मामला बढ़ता देख आसपास के लोगों ने बीच-बचाव किया था.



इसके बाद ही अरशद ने अपने साथियों के साथ मिलकर बदला लेने की ठानी. इसी का नतीजा है कि गुरुवार की सुबह 5 बजे ये तीनों गाय घाट में पुल के पास पहले से घात लगाकर बैठे थे, विनय तिवारी के आते ही उसे गोली मार दी और ये तीनों वहां से फरार हो गए थे. शुक्रवार को इस पूरे केस का पटना सिटी के एएसपी मनीष ने खुलासा कर दिया.

दरअसल, अपराधियों को पकड़ने और मामले की जांच के लिए एसएसपी उपेंद्र कुमार शर्मा ने एएसपी मनीष और आलमगंज के थानेदार सुधीर कुमार की एक टीम बनाई थी. इस टीम ने वारदात स्थल से 2 खोखा और एक पिलेट बरामद किया था. इसके बाद केस की जांच करते हुए मो. राजा उर्फ बादशाह और मणि सहनी को पकड़ा. इनके ठिकाने से 2 देशी कट्टा बरामद किया. फिर अंत में मुख्य अभियुक्त मो. अरशद को राजा घाट से गिरफ्तार किया. इसके पास से भी एक देशी कट्टा बरामद किया गया. एएसपी के अनुसार पहले चांद कॉलोनी का रहने वाला अरशद पहले भी हत्या और आर्म्स एक्ट में जेल जा चुका है.