50 हजार के इनामी माणिक के निशानदेही पर भोजपुर पुलिस ने की बड़ी कार्रवाई, 6 हथियार और 52 गोली बरामद

पटना/अमित जायसवाल : पटना पश्चिम को अशांत रखने वाले कुख्यात व 50 हजार के इनामी अपराधी माणिक सिंह को बिहार एसटीएफ ने गुरुवार की शाम झारखंड के हजारीबाग से गिरफ्तार किया था. पकड़े जाने के बाद एसटीएफ की टीम ने कुख्यात माणिक से लंबी पूछताछ की थी. पूछताछ में ही पता चला कि कुख्यात माणिक अपने हथियार भोजपुर जिले के चांदी के खनगांव में विजय पांडेय के पास रखता है. इस इनपुट को एसटीएफ ने भोजपुर के एसपी सुशील कुमार शेयर किया और तत्काल कार्रवाई को भी कहा. भोजपुर एसपी ने भी इसमें देरी नहीं की. तुरंत एक स्पेशल टीम बना डाली. स्पेशल टीम ने शुक्रवार को विजय पांडेय के घर छापेमारी की. पूरी कार्रवाई के दौरान भोजपुर पुलिस के होश उड़ गए. दरअसल, उन्हें विजय पांडेय के घर एक ही हथियार के होने की जानकारी दी गई थी. लेकिन जब घर के अंदर छापेमारी की कार्रवाई शुरू हुई तो उन्हें एक के बाद एक कुल 6 हथियार 52 गोली मिले. साथ में 3 खोखा और 37.5 लीटर शराब बरामद हुआ.

एसपी सुशील कुमार के अनुसार माणिक और विजय पांडेय के बीच पुराना संबंध है. विजय एक बालू माफिया है. पटना के बिहटा और आरा से वो जेल भी जा चुका है. छापेमारी में दौरान विजय पांडेय के कमरे से बेड के सिरहाने से दो देशी कट्टा, आलमीरा से दो एक नाली बंदूक और एक 7.65 एमएम का देशी पिस्टल बरामद हुआ. दूसरे कमरे से शराब मिली. जबकि विजय के बेटे गोपाल पांडेय के कमरे में बेड के सिरहाने से एक लोडेड देशी कट्टा मिला. पूछताछ में पता चला कि चांदी के ही देवव्रत उर्फ अमित शाह से विजय शराब लेता था. फिर उसे भी पकड़ा गया. उसके पास से शराब बिक्री के 6 लाख कैश मिले. भोजपुर पुलिस ने तीनों को गिरफ्तार कर लिया है. साथ ही दो अलग एफआईआर दर्ज की है.



पटना पुलिस को सौंपा गया माणिक
गिरफ्तार माणिक को लेकर बिहार एसटीएफ की टीम हजारीबाग से पटना आ गई. शुक्रवार को उसे पटना पुलिस के हवाले भी कर दिया गया. सौंपे जाने के बाद पटना पुलिस की टीम ने भी उससे पूछताछ की. कोरोना टेस्ट के बाद उसे कोर्ट में पेश किया जाएगा.

फरार पिता पर भी है 50 हजार के इनाम
नौबतपुर के रहने वाले इस कुख्यात अपराधी माणिक सिंह के ऊपर 50 हजार रुपए का इनाम रखा गया था. फरार चले रहे इसके पिता मनोज सिंह के ऊपर भी 50 हजार का इनाम घोषित किया जा चुका है. बाप-बेटे पर इनाम रखने के लिए पटना के एसएसपी उपेंद्र कुमार शर्मा की तरफ से करीब दो महीने पहले ही पुलिस मुख्यालय को प्रस्ताव भेजा गया था. बेटा तो एसटीएफ के हत्थे चढ़ गया, पर पिता अब भी फरार है.