4 महीने बाद घर लौटी लापता लड़की, बदमाशों ने उत्तराखंड में कर रखा था कैद

लाइव सिटीज, पटना/अमित जायसवाल : राजेंद्र नगर इलाके से लापता हुई एक लड़की करीब 4 महीने बाद वापस अपने घर लौटी है. उसकी हालत अजीब सी हो चुकी थी. घर पहुंचने पर वो सही कुछ भी बता नहीं पा रही थी. उसके चेहरे पर डर साफ तौर पर दिख रही थी. वो पूरी तरह से फटेहाल हालत में थी. अपने घर वापस लौटी लड़की का नाम मीना (बदला हुआ नाम) है. ये पटना के रामकृष्णा नगर थाना एरिया की रहने वाली है.

घर की सबसे बड़ी बेटी जब से लापता हुई थी, तब से परिवार की खुशियां भी चली गई थी. जो बेटी के लौटते ही वापस आ गई है. लेकिन सबके मन में एक ही सवाल था कि आखिर वो गायब कैसे हुई? इस सवाल का जवाब उसने अपने पिता को दिया.



प्रसाद खाते ही आ गया था चक्कर

मीना (बदला हुआ नाम) इंटरमीडिएट की स्टूडेंट है. पिता के अनुसार बात 25 जनवरी की है. उनकी बेटी फाइनल एग्जाम के लिए एडमिटकार्ड लाने राजेंद्र नगर स्थित एक कॉलेज में गई थी. वो स्टूडेंट भी उसी कॉलेज की थी. जब वो एडमिट कार्ड लेकर घर जाने के लिए निकली तो कुछ दूर आगे बढ़ते ही मंदिर के पास उसे एक महिला मिली. महिला ने मीना को प्रसाद खाने को दिया. खाने के कुछ देर बाद ही उसे चक्कर आ गया. हालांकि उसी हालत में मीना ने घर भी फोन किया था. लेकिन उसके बाद वो बेहोश हो गई. जब उसे होश आया तो वो एक कमरे में थी. लेकिन उसे जगह के बारे में नहीं पता था.

होश आने पर बदल जाता था कमरा

मीना ने जो बातें अपने पिता को बताई है. उसके मुताबिक कभी इंजेक्शन दी जाती थी तो कभी दवाई खिला दी जाती थी. इसके बाद वो बेहोश हो जाती थी. जब भी उसे होश आता था तो कमरा अलग होता था. कुछ लोग अक्सर आसपास ही रहते थे. लेकिन वो लोग कौन थे, इस बारे में मीना को कुछ भी नहीं पता है. दूसरी तरफ बेटी के लापता होने पर 25 जनवरी को ही पिता ने पटना के पत्रकार नगर थाना में उसकी गुमशुदगी का कंप्लेन दर्ज कराया था.

भागते हुए पकड़े जाने पर ब्लेड से काट दिया

मीना को किन लोगों ने कैद कर रखा था? ये उसे भी नहीं पता. कैद करने के पिछे की वजह क्या थी? यह भी सपष्ट नहीं हो सका है. बदमाशों कैद से भागने की कोशिश उसने पहले भी की. लेकिन वो पकड़ी गई. पकड़े जाने पर बदमाशों ने उसके शरीर के अलग-अलग हिस्सों पर ब्लेड से काट दिया था. इसके बाद 31 मई को वो किसी तरह से बंद कमरे के खिड़की के रास्ते भाग निकली. तब उसे पता चला कि वो उत्तराखंड में है. लोगों से मदद मांगते हुए वो लखनउ पहुंची. वहां से भी पटना आने के लिए उसने कई लोगों की मदद ली. इसके बाद गुरुवार की शाम वो अपने घर पहुंची. फिर पिता ने पत्रकार नगर थाना की पुलिस को जानकारी दी. सिटी एसपी ईस्ट जितेंद्र कुमार के अनुसार मीना ने जो बातें पिता को बताई है, उसकी पूरी पड़ताल होगी. लड़की का बयान दर्ज कराया जाएगा. मामला सही पाए जाने पर पटना पुलिस सख्ती से कार्रवाई करेगी.