लाइव सिटीज, पटना/अमित जायसवाल : जमीन की ब्रोकरी करने वाले सुबोध कुमार की हत्या की वारदात को कुल तीन अपराधियों ने मिलकर अंजाम दिया था. सुबोध को रुपए देकर हायर किए गए अपराधियों ने गोली मारी है. यह बात पटना के दीघा थाने की पुलिस की जांच में सामने आ चुकी है. सुबोध को मौत के घाट उतारने के पीछे की वजह क्या है? यह पूरी तरह से अभी साफ नहीं हो पाया है.

इस केस की जांच कर रही पुलिस की टीम वारदात का कनेक्शन जमीन विवाद की वजह से जोड़ कर देख रही है. हालांकि इस प्वाइंट पर भी पुलिस असमंजस में है. क्योंकि सुबोध की पत्नी को शक है कि उसके पड़ोसी उपेंद्र ने अपराधियों को हायर कर पति की हत्या करा दी. काफी समय से सुबोध और उपेंद्र के बीच दुश्मनी चल रही थी. किसी बात को लेकर दोनों के बीच लंबे वक्त से विवाद था. पुलिस की मानें तो सुबोध की हत्या के बाद से उपेंद्र के घर में ताला लटका हुआ है. वो घर से फरार है.

स्कूल से डेली लौट आते थे घर

सुबोध का रूटीन था कि डेली सुबह में वो घर से बच्चों को लेकर स्कूल जाता था. फिर स्कूल में बच्चों को छोड़ने के बाद वो वापस घर लौट आता था. लेकिन गुरुवार की सुबह ऐसा नहीं हुआ. बच्चों को स्कूल में छोड़कर वो कहीं जा रहा था. सुबोध कहां जा रहा था? यह किसी को पता नहीं है. पुलिस की जांच में भी अब तक इस प्वाइंट पर कुछ साफ नहीं हो पाया. इस बात का गंभीरता से पता लगाया जा रहा है कि आखिर सुबोध जा किसके पास रहा था?

इस तरह हुई थी वारदात

दीघा के पाटीपुल इलाके के रहने वाले सुबोध कुमार को बाइक से आए अपराधियों ने बनाए जा रहे आर ब्लॉक-दीघा रूट पर गोली मारी थी. अपराधियों की चलाई गई गोली सुबोध के कनपट्टी पर लगी. गंभीर रूप से घायल होने के बाद उसे पीएमसीएच में इलाज के लिए एडमिट कराया गया था. जहां शाम में ही इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई थी. इस वारदात को अब तक 24 घंटे से अधिक बीत गए हैं. अब तक किसी की गिरफ्तारी नहीं हो पाई है. हालांकि पटना पुलिस का दावा है कि वारदात में शामिल अपराधियों की पहचान कर ली गई है. जल्द ही उनकी टीम हत्यारों को गिरफ्तार कर लेगी.