दरभंगा में पुलिसवाले की गाड़ी से निकला 10 कार्टन विदेशी शराब

लाइव सिटीज डेस्क : बिहार में शराबबंदी के बाद भी शराब तस्करी और शराबियों के गिरफ्तार होने का सिलसिला बदस्तूर जारी है. सरकार के तमाम प्रयासों के बावजूद धंधेबाज सप्लाई के लिए कर रहे नये-नये तरीके ईजाद कर ले रहे है. यहां तक की अब लग्जरी गाड़ियों में भी शराब की सप्लाई हो रही है. इसमें पुलिस वाले की गाड़ी भी शामिल है. दरभंगा जिला के बहादुरपुर थाना क्षेत्र के पंडासराय गुमटी के निकट पुलिस गश्ती गाड़ी को देखकर एक बोलोरो भागने लगा, जिसके बाद गश्ती पुलिस को शक हुआ और उसका पीछा किया. काफी देर तक पीछा करने के बाद देकुली चौक पर उसे पकड़ा गया. छानबीन करने पर उक्त गाड़ी में से 10 कार्टन विदेशी शराब जब्त हुए.

मौके पर बहादुरपुर क्षेत्र के राघेपुरा गांव निवासी मो. अब्बास को गिरफ्तार कर लिया गया. गिरफ्तार अब्बास ने बताया कि मुजफ्फरपुर के मिठनपुरा थाना में तैनात पुलिसकर्मी महेश पासवान की यह निजी बोलोरो गाड़ी है, जिससे 240 बोतल विदेशी शराब जब्त किया गया. गाड़ी का नंबर बीआर 2 एन 5026 है. आरोपी छह महीने से सात हजार रुपए के किराए पर लेकर इसे चला रहा था.

वहीं पूरे मामले पर एएसपी दिलनवाज अहमद ने बताया कि पंडासराय में गश्ती गाड़ी को देखकर एक बोलोरो पर शक हुआ, जिसे खदेड़कर पकड़ा गया. उन्होंने बताया कि जब छानबीन किया गया तो गाड़ी के अंदर से शराब बरामद किया गया है. पुलिस ने बताया कि अन्य दो लोग भागने में कामयाब रहे, जिनकी गिरफ्तारी के लिए छापेमारी की जा रही है. पकड़े गए बोलोरो मुज्जफरपुर का है. वहीं बोलोरो मालिक का पुलिसकर्मी होने के सवाल पर कहा कि अभी गाड़ी के कागजात उपलब्ध नहीं कराई गई है. जांच की जा रही है.

बता दें कि बिहार में शराबबंदी के बाद पिछले कुछ माह में शराब की सप्लाई तेज हो गयी है. बंदी के समय एक बोतल विदेशी शराब की कीमत Rs 1200 तक वसूली जा रही थी. वहीं सप्लाई बढ़ने के बाद शराब की कीमत में भी गिरावट आयी है. शराब के शौकीनों को फोन पर भी होम डिलिवरी की सुविधा उपलब्ध है. हालांकि, लोगों के घरों तक होम डिलिवरी करने वाला सप्लायर बोतल में असली या नकली शराब भर कर बेच रहा है, इसकी पहचान करना मुश्किल है. बंगाल, झारखंड, यूपी, पंजाब जैसे राज्यों के शराब माफिया बिहार में शराब का कारोबार धड़ल्ले से कर रहे हैं.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*