SBI आज से कर रहा है ये 3 बड़े बदलाव, जानिए कितना पड़ेगा आपकी जेब पर असर

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, sbi bank, bank, indian bank,

लाइव सिटीज डेस्क : आज 1 अप्रैल से भारतीय स्टेट बैंक अपने कई नियमों में बड़ा बदलाव कर रहा है. अगर आप भारतीय स्टेट बैंक के ग्राहक हैं, तो आज से आपके लिए कई चीजें बदल रही हैं. हम आपको बता रहे हैं, तीन ऐसे बदलावों के बारे में, जो एसबीआई ग्राहकों के लिए हो गए हैं या होने वाले हैं. इन सभी बदलाव से एसबीआई के करीब 25 करोड़ ग्राहकों को इससे फायदा मिलेगा.

मिनिमम बैलेंस चार्ज

एसबीआई ने खाते में मिनिमम बैलेंस न रखने पर लगने वाले चार्ज को 75 फीसदी तक घटा दिया है. इस कटौती के बाद आपको पहले के मुकाबले काफी कम चार्ज देना होगा. यह कटौती 1 अप्रैल से लागू हो गई है. मौजूदा समय में आपको मेट्रो शहरों में 3 हजार रुपये का मिनिमम बैलेंस अपने खाते में बनाए रखना पड़ता है. अर्द्ध शहरी शाखाओं में 2 हजार रुपये की रकम बनाए रखनी पड़ती है. वहीं, ग्रामीण क्षेत्रों की बात करें तो यहां एक हजार मिनिमम बैलेंस के तौर पर खाते में बनाए रखना होता है.

क्या आपके भी SBI अकाउंट से कट गए हैं 147 रुपये? तो यहां जान लें क्यों काटे गए…

चेक बुक नहीं चलेगी

भारतीय स्टेट बैंक ने पिछले दिनों एक बार फिर अपने एसोसिएट बैंकों के ग्राहकों को याद दिलाया है कि उन्हें इन बैंको की चेक बुक 31 मार्च तक बदल लेनी चाहिए. एसबीआई ने कहा है कि 31 मार्च तक एसोसिएट बैंकों के सभी ग्राहकों को चाहिए कि वह नई चेकबुक हासिल कर लें. 1 अप्रैल के बाद आप इन चेकबुक के जरिये कोई भी लेनदेन नहीं कर पाएंगे.

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, sbi bank, bank, indian bank,

दरअसल पिछले साल 5 एसोसिएट बैंकों का एसबीआई में विलय किया गया है. अप्रैल, 2017 में स्टेट बैंक ऑफ बीकानेर एंड जयपुर (SBBJ), स्टेट बैंक ऑफ हैदराबाद (SBH), स्टेट बैंक ऑफ मैसूर (SBM), स्टेट बैंक ऑफ पटियाला (SBP), स्टेट बैंक ऑफ त्रावणकोर (SBT) और भारतीय महिला बैंक का एसबीआई में विलय कर दिया गया है.

इलेक्टोरल बॉन्ड

देश भर में इलेक्टोरल बॉन्ड की बिक्री का अगला दौर 2 अप्रैल से शुरू होगा. 9 दिनों तक चलने वाली बिक्री देश भर में भारतीय स्टेट बैंक की 11 शाखाओं के जरिये होगी. चुनाव आयोग के मुताबिक दिल्ली, गुवाहाटी, भोपाल जैसे 11 शहरों में ये बॉन्ड 10 अप्रैल तक मिलेंगे. केंद्र सरकार ने चुनावी चंदे और राजनीतिक दलों को मिलने वाले चंदे में पारदर्शिता बढ़ाने की गरज से इलेक्टोरल बॉन्ड की व्यवस्था की है. नियम के मुताबिक कोई भी नागरिक खुद या किसी के साथ मिलकर ये बॉन्ड खरीद सकता है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*