मशरूम उत्पादन का हब बनेगा रोहतास, खुद उपजायेंगे बीज

सासाराम (राजेश कुमार) : धान का कटोरा माना जाने वाला रोहतास जिला के किसान धान और गेहूं की परम्परागत खेती से विमुख होने लगे हैं. इन फसलों की उपज का वाजिब मूल्य नहीं मिलने से किसानों के चेहरे पर मायूसी साफ़ झलक रही है. अभी तैयार धान की सरकारी खरीद का इन्फ्रास्ट्रक्चर नहीं होने से लोग औने-पौने भाव में अपनी उपज बेच रहे है. पुश्त दर पुश्त चली आ रही धान गेहूं की खेती इनके लिए घाटे का सौदा बन गयी है.



ऐसे में अब तिलहन-दलहन के अलावा पिपरमिंट और मशरूम की खेती की ओर तेजी सी कदम बढ़ा रहे हैं. मशरूम उत्पादन के लिए बिक्रमगंज स्थित कृषि विज्ञान केंद्र युवाओं का मार्गदर्शक बना हुआ है. इसे लेकर लगातार प्रशिक्षण का दौर शुरू है. कुछ दिनों से बाहर से आये कृषि वैज्ञानिक इन्हें मशरूम के बीज उत्पादन का गुर सिखा रहे हैं. बिक्रमगंज केंद्र में चल रहे प्रशिक्षण में बड़ी तादात में किसान परिवार से जुडी महिलायें भी शामिल हो रही हैं. अभी तक इस जिले में छिटपुट तौर पर हो रहे मशरूम उत्पादन मुनाफे के मामले में हर खेती को पीछे छोड़ दिया है.

मशरूम उत्पादन से मालामाल हो रहा है रहीं का किसान पुत्र
जिले के दिनारा प्रखंड के तहत भानपुर पंचायत का रहीं गांव के छात्र अरविन्द कुमार सिंह को कल तक कोई पहचानता भी नहीं था. कॉलेज में शिक्षारत अरविन्द अपने पूर्वजों की हाड़तोड़ मेहनत के बावजूद कृषि से शरीर पर ठीक से कपड़े नहीं होने का बचपन से ही मलाल पाल रखा था. दो वर्ष पूर्व उसने कृषि अनुसन्धान केंद्र के मार्गदर्शन में अपने यहां मशरूम उत्पादन शुरू किया. तैयार कच्चा माल आसानी से 120 रु प्रति किलो बिक जाता है. प्रोसेस के तहत ड्राई बनाने पर उसकी कीमत 800/- की हो जाती है. अरविन्द की माने तो आज वह बोरियों में भर कर अपना उत्पाद बाहर भेजता है. उसके लिए नियत बाजार भी उपलब्ध है.

मशरूम उत्पादन का प्रशिक्षण लेने उमड़े युवा
अक्सर शांत रहने वाली गतिविधियों के बीच बिक्रमगंज स्थित कृषि विज्ञान केंद्र में युवक-युवतियों की बढ़ी आवाजाही देख कर आसपास के चाय दूकानदार हैरत जता रहे हैं. पूछने पर उनमे से एक बताता है कि यहां के नवजवान किसानी सीखने आ रहे हैं. बाहर से आये कृषि वैज्ञानिक डॉ. अरविन्द कुमार व केंद्र की डॉ. रीता सिंह दर्जनों की तादात में शामिल युवाओं को मशरूम बीज के
उत्पादन का प्रशिक्षण दे रहे हैं.

सीखने वालों में शामिल आसपास के गांवों से जुड़े योगेन्द्र सिंह, रागिनी दुबे, अमृता, प्रियंका कुमारी, खुशबू, लालसा कुमारी, लक्ष्मी कुमारी, नीरा कुमारी, अशोक कुमार, रमेश सिंह, लक्ष्मीकान्त, अमित कुमार, सत्यनारायण चौधरी, मो. कुद्दुस अंसारी, ब्रजेश कुमार, प्रदीप चौधरी, रोहन राज, रणविजय प्रताप सहित अन्य है.

बिहार के 5 जिलों में हाईवे पर सरकार का बड़ा फैसला, पटना को होगा फायदा

कहती हैं कृषि वैज्ञानिक
कृषि विज्ञान केंद्र के वैज्ञानिक डॉ. रीता सिंह कहती हैं कि इस जिले में व्यावसायिक खेती की काफी वाइबिलिटी है. ख़ास कर युवाओं में नए ढंग से खेती की जिज्ञासा देखी जा रही है. फिलवक्त मशरूम उत्पादन का दौर चल रहा है. बिक्रमगंज अनुमंडल के नोखा, संझौली, नटवार, दिनारा प्रखंड के कई गांवों में उत्पादन हो रहा है. दिनारा के सरना मठकी में बड़े पैमाने पर उत्पादन की योजना है. उन्होंने विश्वास जताया कि इस जिले में मशरूम उत्पादन हब का रूप ले सकता है.