पेट्रोल-डीजल के अलावा CNG पर भी झटका देने की तैयारी में सरकार

लाइव सिटीज डेस्क : आम आदमी अब पेट्रोल—डीजल की महंगाई और लगातार बढ़ती कीमतों से कराहने लगा है. लेकिन सरकार अभी रियायत के मूड में नहीं दिख रही है. पेट्रोल-डीजल के बाद अब सरकार सीएनजी और पीएनजी की कीमतें भी बढ़ा सकती है. तीन साल में पहली बार सरकार ने प्राकृतिक गैस का दाम 16.5 फीसदी बढ़ाकर 2.89 डॉलर प्रति दस लाख ब्रिटिश थर्मल यूनिट (एमएमबीटीयू) कर दिया है. मार्केट विशेषज्ञों का मानना है कि इससे उत्पादकों को कुछ राहत मिलेगी, लेकिन सीएनजी और पीएनजी के दाम बढ़ने की आशंका है.

कब बढ़ेंगी कीमतें!

माना जा रहा है कि अक्टूबर महीने की शुरुआत में ही कंपनियां सीएनजी के दाम बढ़ाने का ऐलान कर सकती है. हालांकि, अभी तक कंपनियों की ओर से कोई भी प्रतिक्रिया जारी नहीं हुई है.

इसलिए महंगी हो सकती है सीएनजी

पेट्रोलियम मंत्रालय की ओर से जारी बयान के मुताबिक एक अक्‍टूबर से छह महीने के लिए प्राकृतिक गैस के दाम 2.48 डॉलर प्रति इकाई से बढ़ाकर 2.89 डॉलर प्रति एमएमबीटीयू कर दिए गए हैं.

तीन साल में पहली बार बढ़ी कीमतें

यह मूल्यवृद्धि सार्वजनिक क्षेत्र की तेल एवं प्राकृतिक गैस निगम (ओएनजीसी) तथा रिलायंस इंडस्ट्रीज के मौजूदा क्षेत्रों से होने वाले गैस उत्पादन पर लागू होगी. लगातार पांच दौर की मूल्य कटौती के बाद प्राकृतिक गैस के दाम बढ़ाए गए हैं. आखिरी बार दामों में इस साल एक अप्रैल को कटौती की गई थी.

नए फॉर्मूले से तय होती है कीमतें

राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) सरकार ने अक्‍टूबर, 2014 में नया फॉर्मूला बनाया था. नए फॉर्मूले के तहत गैस कीमतों को प्रत्येक छह महीने बाद संशोधित किया जाता है. प्राकृतिक गैस के दाम बढ़ने का मतलब है कि सीएनजी और पीएनजी के लिए कच्चे माल की लागत बढ़ेगी. इसके अलावा बिजली उत्पादन और उर्वरक तथा पेट्रो रसायन उत्पादन के लिए भी लागत बढ़ेगी.

इसे भी पढ़ें :

सत्यपाल मलिक बनाए गए बिहार के नए गवर्नर, गंगा बाबू को मेघालय का जिम्मा

मौका है : AIIMS के पास 6 लाख में मिलेगा प्लॉट, घर बनाने को PM से 2.67 लाख मिलेगी ​सब्सिडी

RING और EARRINGS की सबसे लेटेस्ट रेंज लीजिए चांद​ बिहारी ज्वैलर्स में, प्राइस 8000 से शुरू

चांद बिहारी अग्रवाल : कभी बेचते थे पकौड़े, आज इनकी जूलरी पर है बिहार को भरोसा

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*