यौन रोगों से हर कोई रहता है परेशान, यहां जानिये सभी अनकहे सवालों के जवाब

1. मैं एक 28 बर्षीय सरकारी सेवा में कार्यरत अधिकारी हूं. मैं पिछले 3 साल से धात की बीमारी से काफी परेशान हूं. जब भी मल मूत्र करने जाता हूं तो मेरे वीर्य पहले या बाद में निकल जाता है. इस कारण मुझे बहुत कमजोरी महसूस होती है. अभी अविवाहित हूं. कुछ दिन में मेरी शादी फिक्स होनेवाली है. डरता हूं, इसके कारण मुझे शादी के बाद कोई दिक्कत तो नहीं आएगी. कृपया सही सलाह व इलाज बताएं.

जवाब : जिन बीमारियों का आपने जिक्र किया है, उसे आयुर्वेद शास्त्र में धातुक्षीणता (spermatorrhoea) कहते हैं. अमूनन इसमें पुरूष को जोर लगाकर पाखाना करने पर या मूत्र से पहले या बाद में वीर्य निकल जाता है. हस्तमैथून इस रोग का प्रमुख कारण है. कब्ज, अत्यधिक नशा व कामोत्तेजक साहित्य या मूवी देखने से भी यह रोग लग जाता है. आलस्य, चिंता, सिर में दर्द, वीर्य का पतला होना, शारिरिक दुर्बलता आदि लक्षण रोगी में दिखाई देते हैं.

चिकित्सा – रोगी को अपना ध्यान कामोत्तेजक विचारों से हटाकर रचनात्मक कार्यों में लगाना चाहिए. पेट रोग होने पर उसको ठीक करें. नशे का पूर्ण निषेध. सरल तथा पौष्टिक आहार लें. औषधियों का प्रयोग करने से पहले एक बार अपने निकटतम आयुर्वेदिक सेक्सोलॉजिस्ट से मिलकर चिकित्सा परामर्श लेना न भूलें.

2. मैं एक 22 वर्षीय नौजवान हूं. अभी मेरा स्टडी पीरियड है. इधर दो सालों से मुझे महीने में 12-15 बार नाईट फॉल हो जाता है. मुझे इसका सीधा असर पढ़ाई पर पड़ रहा है. आलस्य व कमजोरी महसूस करने लगा हूं. कृपया मुझे इसका सही कारण व लक्षण बताते हुए चिकित्सा परामर्श दें.

जवाब : स्वप्नदोष एक सामान्य शारिरिक क्रिया है. स्वप्नदोष होने की अवधि विभिन्न व्यक्तियों में विभिन्न समय पर कमती बढ़ती होती रहती है. किसी सप्ताह में दो-तीन बार हो जाता है और उसके बाद महीनों तक नहीं होता है. एक माह में 2 से 4 बार नाईट फॉल सामान्य है. यह कोई रोग नहीं होता है. प्राकृतिक है. लेकिन 5 बार से ज्यादा नाईट फॉल होना बीमारी की श्रेणी में आता है.

इसका सही इलाज कराना जरूरी हो जाता है. अन्यथा आगे चलकर विभिन्न प्रकार के सेक्स रोग से ग्रसित होने की संभावना बढ़ जाती है. जैसे कि शीघ्रपतन, नपुंसकता, शारिरिक कमजोरी, मानसिक चिंता, आंखों के नीचे कालापन, चेहरे की रौनक कम होने लगता है. यह रोग अधिकतर अत्यधिक हस्तमैथून करने, वासनामय कामुक मूवी व पुस्तक पढ़ने, ज्यादातर मसालेदार भोजन करने, रचनात्मक कार्यों में ध्यान न लगाकर सिर्फ सेक्स के बारे में सोचते रहने व मल-मूत्र का वेग रोकने से भी होता है.

चिकित्सा – सबसे पहले यह जान लें कि स्वप्नदोष स्वस्थ पुरुषों को ही होता है. यह कोई रोग नहीं है. चिकित्सा केवल उसी स्थिति में करनी चाहिए जबकि रोगी बहुत ज्यादा कमजोरी की शिकायत करे और उसे मानसिक अशांति हो और महीने में 5 से 6 बार या इससे ज्यादा नाईट फॉल होता हो.

यह भी पढ़ें :

डायबिटीज से बहुत प्रभावित हो सकती है आपकी सेक्स लाइफ, यहां जानिये पूरा इलाज

बांझपन की दोषी सिर्फ महिला नहीं, पुरुषों की भी है समस्या, आयुर्वेद में करायें सफल इलाज

3. मैं 32 वर्षीय शादीशुदा महिला हूं. मेरे पति की उम्र 35 वर्ष है. शादी किये अभी दो साल हुए हैं. मेरी समस्या ये है कि शादी के बाद से अब तक मेरा सेक्सुअल लाइफ संतोषजनक नहीं है. एक बार भी ठीक से इंटरकोर्स नहीं हुआ है. मेरे पति को सेक्स करने वक्त घबराहट व शिश्न में कड़ापन नहीं आता है. पूरी तरह डीप में शिश्न न जा पाता है ना ही ज्यादा देर तक घर्षण ही हो पाता है. उचित चिकित्सा सलाह दें.

जवाब : आपके कथनानुसार आपके पति मैथुन कार्य करने में असमर्थ हैं. पुरुष में होनेवाली यह एक विचित्र लैंगिक व्याधि है. जिसमे लिंग रचना की दृष्टि से पूर्ण होते हुए भी क्रिया की दृष्टि से एकदम शिथिल एवं व्यर्थ रहता है. इसमें पुरूष का शिश्न में स्त्री समागम करने की शक्ति बिल्कुल नहीं रहती. तथा पुरुषांग पूर्णतया शिथिल रहता है.

जिस पुरुष में स्त्री के साथ इंटरकोर्स की शक्ति नहीं होती उसको नपुंसक कहते हैं. यह समस्या कई पुरुषों में देखा गया है. लिंग का उत्थान न होने के कारण वे खुद भी सेक्स के आनंद लेने से वंचित रहते हैं और अपनी पत्नी को भी सेक्स सुख नहीं दे पाते. इलाज करने के पूर्व यह पता करना होता है कि आखिर इसका कारण क्या है. शारीरिक कारणों में प्रमुख हैं – हार्मोन संबंधी असामान्यता, शारिरिक थकान, जननांग संबंधी विकार, तंत्रिकातंत्र संबंधी रोग आदि. मानसिक कारणों में बचपन में कई गयी गलतियाँ और भ्रामक विचारधारा भी नपुंसकता के लिए जिम्मेदार हो सकती है. स्वप्नदोष और धातुरोग भी नपुंसकता का कारण होता है.

इससे घबराने की जरूरत नहीं है. आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति में इसका कारगर व सफल इलाज है. अन्यत्र या स्वयं मेडिकल स्टोर से दवा लेने के बजाय अपने नजदीकी अनुभवी योग्य सेक्सोलॉजिस्ट से मिलकर चिकित्सा परामर्श लें. ऐसे नपुंसकता के रोगियों के लिए संतुलित भोजन का बड़ा महत्व है. पौष्टिक भोजन देना चाहिए. आहार में सूखे मेवे, दूध, दही, घी, हरी सब्जियां, दालें, अंडे व मांस ले सकते हैं. मछली का प्रयोग सर्वोत्तम रहता है.

4. मैं 45 वर्षीय गजटेड अधिकारी हूं. मेरी शादी 8 साल पूर्व हुई है. मेरी पत्नी की उम्र 36 साल है. इधर तीन साल से मुझे यौन इच्क्षा नहीं होती है. पत्नी को फील न हो इसलिये किसी तरह सेक्सुअल रिलेशनशिप कायम करता हूं. पर ठीक से हो नहीं पता है. मेरा शीघ्र ही वीर्यपात हो जाता है, जिस कारण पत्नी से अनबन होते रहता है. कृपया उचित चिकित्सा सलाह दिया जाये.

जवाब : आपको शीघ्रपतन की बीमारी है. वास्तव में सेक्स शारीरिक से अधिक मानसिक तृप्ति का साधन है. इसके लिए कहा गया है कि यह पैरों के बीच नहीं वरन कानों के बीच होता है. (sex is not between legs but is between ears) यहां कानों का अर्थ दिमाग से है. कहने का तात्पर्य है कि सेक्स का पूरा संबंध दिमाग से है. वीर्य का पतलापन, शारीरिक कमजोरी, अत्यधिक स्त्री प्रसंग, सेक्स से संबंधित ज्यादा किताबें पढ़ना या वीडियो देखना, सहवास के समय घबराहट, चिंता, व्याकुलता हो तो भी यह संभावित है.

हस्तमैथून भी शीघ्रपतन का एक बहुत बड़ा कारण है. अत्यधिक शारीरिक थकान, मानसिक स्थिति के प्रभावित होने, जैसे – चिंता, शोक आदि के कारण भी शीघ्र स्खलन हो सकता है. अनुभव की कमी एवं मानसिक तनाव भी शीघ्रपतन का प्रमुख कारण होता है.

चिकित्सा – संभोग करने के तरीके से भी वीर्य स्खलन पर बहुत प्रभाव पड़ता है. अतएव संभोग करने की पोजीशन आरामदायक होनी चाहिए. पति-पत्नी एक दूसरे के भावनाओं का पूर्ण रूप से आदर करें. सहवास को बढ़ाने के लिए सहवास से पहले रतिक्रिया का होना अति आवश्यक है. पूर्ण धैर्य रखते हुए आत्मविश्वास से सहवास क्रिया आरम्भ करनी चाहिए. यह नहीं सोचना चाहिये कि आज सहवास ठीक ढंग से संपन्न हो पायेगा या नहीं. अपितु आशावादी दृष्टिकोण अपनाना चाहिए कि आज मैं ठीक ढंग से सहवास कर पाऊंगा. क्योंकि शीघ्रपतन का कारण शारीरिक कम मानसिक ज्यादा होता है.

पेनिस में पूर्ण उत्तेजना आये बिना सहवास क्रिया आरम्भ नहीं करना चाहिए. औषधीय उपचार के लिए किसी योग्य आयुर्वेदिक सेक्सोलॉजिस्ट से परामर्श लें.

इससे जुड़ी किसी भी तरह की समस्या के समाधान के लिए पटना के जाने-माने सेक्स रोग विशेषज्ञ डॉ. मधुरेन्दु पाण्डेय (बी.ए. एम.एस) से संपर्क किया जा सकता है. उनका कांटेक्ट नंबर है : 9431072749/9835081818. उनके क्लिनिक का पता है : मनोरमा मार्केट, बंगाली अखाड़ा, डी एन दास लेन, लंगर टोली, पटना-4, बिहार. आप इनकी ऑफिसियल वेबसाइट www.sexologistinpatna.com पर भी जाकर अपनी अप्वाइंटमेंट फिक्स करा सकते हैं.

Powered.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*