अब ATM फ्रॉड के शिकार हुए तो बैंक लौटाएगा आपका पैसा !

लाइव सिटीज डेस्कःउपभोक्ताओं के लिए एक अच्छी खबर है. अब अगर आपके बैंक खाते से कोई गलत तरीके से निकासी करता है, या फिर आपके साथ एटीएम फ्रॉड जैसी घटना होती है तो जिम्मेदारी बैंक की होगी. बैंक को आपकी राशि लौटाना होगा. दरअसल उपभोक्ता के खाते से किसी भी तरह की अनाधिकृत निकासी की शिकायत की जांच करना बैंक की ड्यूटी है.



NCDRC ने दिया पैसा लौटाने का आदेश

एक मामले में राष्ट्रीय उपभोक्ता विवाद निवारण आयोग (NCDRC) ने उक्त टिप्पणी करते हुए भारतीय स्टेट बैंक को पीड़ित खाताधारक को 30 हजार रुपये वापस करने का आदेश दिया, जो एटीएम कार्ड फ्रॉड की वजह से उसके खाते से कम हो गए थे. एनसीडीआरसी ने स्टेट बैंक की उस पुनर्विचार याचिका को खारिज कर दिया जो बैंक ने असम राज्य आयोग के आदेश के खिलाफ दायर की थी.

असम में हुआ था मामला उजागर

इस मामले में असम राज्य आयोग ने जिला उपभोक्ता फोरम के उस फैसले को बरकरार रखा था जिसमें उसने बैंक को उपभोक्ता की रकम वापस करने का आदेश दिया था. मामला असम निवासी जेसीएस कताकी का है. 8 अगस्त 2012 की शाम को करीब 8 बजे उनके पास एक फोन आया जिसमें कॉल करने वाले व्यक्ति ने खुद को स्टेट बैंक के मुंबई कार्यालय से बताया. उसने कताकी से कहा कि उनका एटीएम कार्ड अपग्रेड किया गया है और उसने उन्हें कार्ड का एक नया नंबर भी दिया.

उसी दिन कुछ समय बाद कताकी के फोन पर कार्ड से 976 रुपये और 769 रुपये खरीददारी का मैसेज आया. जब उन्होंने ऑनलाइन अपने खाते की जानकारी की तो पाया कि उनके खाते से 28,949 रुपये कम (डेबिट) हो गए थे. लेकिन उनके फोन पर इसका कोई मैसेज नहीं आया था. शिकायत करने पर बैंक ने जवाब दिया कि उसके पास शिकायतकर्ता को की गई किसी कॉल या मैसेज भेजे जाने का कोई रिकॉर्ड नहीं है.

यह भी पढ़ें-

अब बैंकों के एटीएम से निकालिए पोस्ट ऑफिस में जमा पैसे

बैंकों में भारी फेरबदल, कई सीईओ व एमडी हुए इधर-उधर