सर्विसेज पर तय हुई GST की दरें, हेल्थकेयर और एजुकेशन को राहत

लाइव सिटीज डेस्कः जीएसटी काउंसिल की दो दिवसीय बैठक के दूसरे दिन शुक्रवार को सर्विसेज़ पर जीएसटी की दरें तय कर दी गईं. सर्विसेज़ पर भी जीएसटी की 4 दरें 5%, 12%, 18%, 28% रखी गई हैं. वित्त मंत्री अरुण जेटली ने बताया कि ट्रांसपोर्ट सर्विस पर 5% टैक्स लगाया जाएगा तो लग्जरी सेवाओं पर 28 फीसदी टैक्स लगाया जाएगा.



जीएसटी की बैठक के बाद अरुण जेटली ने मीडिया को बताया कि किसी भी सामान पर कर को बढ़ाया नहीं गया. बल्कि कई वस्तुओं पर इससे पहले लगने वाली दरों में कटौती की गई है. करीब 81 फीसदी वस्तुओं पर 18 फीसदी या उससे कम टैक्स दर रखी गई है. केवल 19 फीसदी वस्तुओं पर सबसे अधिक 28 फीसदी टैक्स की दर लगाई गई है.

वित्त मंत्री ने कहा कि अनाज सहित खाद्य पदार्थ सस्ते हो जाएंगे, क्योंकि उन्हें छूट वाली श्रेणी में शामिल किया गया है. इस श्रेणी में दूध को रखने का भी प्रस्ताव है. हालांकि डिब्बाबंद या ब्रांडेड खाद्य पदार्थों के बारे में अभी फैसला नहीं लिया गया है.

किस सेवा पर कितना टैक्स

  • हेल्थकेयर और एजुकेशन सेक्टर को राहत दी गई है. इसे जीएसटी के दायरे से बाहर रखा गया है.
  • एंटरटेनमेंट टैक्स का सर्विस टैक्स में विलय कर दिया गया है.
  • गुड्स, रेलवे और एयर ट्रांसपोर्ट पर 5% टैक्स लगेगा. यह जीएसटी की सबसे निचली दर है.
  • सिनेमा हॉल्स, रेसकोर्स पर 28% टैक्स लगेगा.
  • फोन बिल पर 18% चार्ज लगेगा.
  • 1000 से कम किराए वाले होटल्स जीएसटी के दायरे से बाहर होंगे.
  • 2500-5000 किराए वाले होटल्स 18% टैक्स के दायरे में.
  • पांच हजार से ऊपर के किराए वाले फाइव स्टार होटल्स पर 28% टैक्स.
  • नॉन एसी रेस्त्रां पर 12 फीसदी सर्विस टैक्स लगेगा.
  • 1000-2500 वाले होटल्स पर 12 टैक्स.
  • सोने के स्लैब पर 3 जून को विचार होगा.
  • ओला-ऊबर जैसी ऐप बेस्ड टैक्सी सर्विस पर 5% टैक्स लगेगा.

यह भी पढ़ें-

7 परसेंट वस्तुओं पर नहीं लगेगा टैक्स, दूध व अनाज जीएसटी से बाहर

GST से सैनिटरी पैड पर लग्जरी टैक्स, ट्विटर पर ट्रेंड कर रहा #LahuKaLagaan