अब ‘आधार’ के चक्कर में फंसे सीनियर सिटीजन, कार्ड दिखायेंगे तो मिलेगा लाभ

लाइव सिटीज डेस्क / गोपालगंज (टीएन मिश्रा) : अब बिना आधार कार्ड के रेलवे का सिस्टम सीनियर सिटीजन का आरक्षण टिकट जारी नहीं करेगा. अचानक यह नियम लागू होने से यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ा. दो दिन पहले तक सीनियर सिटीजन से टिकट लेने के लिए बुकिंग काउंटर पर आधार कार्ड नहीं मांगा जाता था. रिजर्वेशन फाॅर्म पर उम्र लिखने पर ही सीनियर सिटीजन का टिकट जारी कर दिया जाता था. लेकिन अब आरक्षण काउंटर पर आधार कार्ड मांगा जाने लगा है.


दरअसल कंप्यूटर पर रविवार से सूचना आनी शुरू हो गयी कि सीनियर सिटीजन का आरक्षण टिकट लेने वाले को आधार कार्ड, पासपोर्ट और मतदाता पहचानपत्र दिखाना होगा. इसी तरह की शिकायत गोपालगंज से लेकर कई अन्य जिलों से भी मिलनी शुरू हो गयी है. हालांकि पटना में अभी इस तरह की शिकायत किसी ने नहीं की है. गोपालगंज में तो यात्रियों ने इसका विरोध भी करना शुरू कर दिया है.

जानकारी के अनुसार थावे, गोपालगंज और हथुआ में बुकिंग क्लर्क ने सीनियर सिटीजन से आधार कार्ड मांगना शुरू कर दिया है. यात्रियों ने इसका विरोध करना शुरू कर दिया. यात्रियों ने कहा कि टिकट लेने के लिए आधार कार्ड या अन्य दस्तावेज दिखाने की आवश्यकता नहीं है. ट्रेन में चेकिंग स्टाफ के टिकट मांगने पर उम्र के प्रमाणपत्र के लिए आधार कार्ड, पासपोर्ट या मतदाता पहचानपत्र दिखाना पड़ता है. बुकिंग ‌ द्वारा नये नियम की जानकारी देने पर यात्री शांत हुए और घर से आधार कार्ड लेकर पहुंचे. जिनका आधार कार्ड नहीं बना था, उन्हें निराश होना पड़ा.

रेलवे की मानें तो यह सर्कुलर शनिवार को ही आया है. इसके बाद से टूर टिकट और एसी का संयुक्त आरक्षण टिकट देना बंद कर दिया गया. वहीं रविवार से सीनियर सिटीजन का टिकट पूरी तरह से प्रभावी हो गया. गौरतलब है कि रेलवे 60 वर्षीय पुरुष व 58 वर्षीय महिला को सीनियर सिटीजन मानती है. 50 परसेंट कम किराये में सफर करने की अनुमति देता है. रेलवे सीनियर सिटीजन पति-पत्नी को एक साथ टिकट व बर्थ उपलब्ध कराती है. बहरहाल इस नये नियम से उन सीनियर सिटीजन को निराश होना पड़ रहा है, जिन्होंने अब तक अपना आधार कार्ड नहीं बनाया है.

इसे भी पढ़ें : अब NPS खातों को आधार से जोड़ना अनिवार्य, ऐसे करें चुटकी में लिंक