पांच साल और करिये इंतज़ार, 30 रुपये लीटर से कम में मिलेगा पेट्रोल!

petrol

लाइव सिटीज डेस्क : भले ही आज आप पेट्रोल 65 रुपये लीटर में खरीद रहे हों, लेकिन 5 साल और इंतज़ार करिये उसके बाद यह आपको 30 रुपये लीटर या उससे कम में मिल सकता है. भले ही आज इसे आप मज़ाक समझें लेकिन ऐसा संभव हो सकता है. और ऐसा संभव है विज्ञान और बदलती प्रोद्योगिकी की वजह से.

ऐसा दावा किया है तकनीकी और इसके प्रभाव का अध्ययन करने वाले अमेरिका के मशहूर फ्यूचरिस्ट यानी की भविष्यवादी टोनी सीबा ने. टोनी ने ही कई साल पहले सोलर पावर की मांग में तेज इजाफे की भविष्यवाणी की थी. यह काफी हद तक सही साबित हुई है, जिस दौर में टोनी ने सोलर पावर की मांग बढ़ने का दावा किया था, उस वक्त आज की तुलना में कीमतें 10 गुना थीं.

petrol

अंग्रेजी वेबसाइट इकोनॉमिक टाइम्स के मुताबिक टोनी सीबा सिलिकन वैली के एक बड़े बिजनेसमैन हैं साथ ही स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी में भी क्लीन एनर्जी से जुड़े अध्ययन में शामिल हैं. टोनी कहते हैं कि सेल्फ ड्राइव कारों की वजह से दुनिया भर में पेट्रोलियम पदार्थों की कीमतों में जबर्दस्त गिरावट दर्ज की जाएगी. और तेल की कीमतें 25 डॉलर प्रति बैरल तक आ जाएगीं. यूं तो एक भारतीय के लिए उनकी इस भविष्यवाणी पर यकीन करना मुश्किल लगता है. लेकिन उनके आंकड़ों में दम और तर्क नजर आता है.

टोनी का कहना है कि 2020-21 तक दुनिया में तेल की मांग उच्चतम स्तर पर होगी और ये 100 मिलियन बैरल तक पहुंच जाएगा. लेकिन इसके बाद तेल की कीमतें गिरने लगेंगी. 10 साल में तेल की मांग घटकर 70 मिलियन डॉलर हो जाएगी. इसका मतलब होगा कि दुनिया में तेल 25 डॉलर प्रति बैरल बिकेगा.

टोनी सीबा का कहना है कि आने वाले सालों में इलेक्ट्रिक कार ऑयल इंडस्ट्री पर गहरा प्रभाव डालने वाली है. कुछ सालों में लोगों के लिए इलेक्ट्रिक कार खरीदना और चलाना दोनों सस्ता पड़ेगा. इसका असर तेल की कीमतों पर भी पड़ेगा. हाल ही में ऊर्जा मंत्री पीयूष गोयल ने कहा था कि 2030 तक भारत में भी सारी कारें इलेक्ट्रिक कार से चलने वाली होंगी. इसका ये भी मतलब लगाया जा सकता है कि अगले 15 से 20 सालों में देश में पेट्रोल डीजल से चलने वाली कारें ना के बराबर रह जाएंगी.

यह भी पढ़िए – BSNL का नया तोहफा, सैटेलाइट फोन से बिना नेटवर्क वाले क्षेत्रों में भी मिलेगी सेवा
कर लीजिए शौक पूरे : मात्र 12 रुपये में हवाई जहाज का सफर