रेलवे दे सकती है बड़ी खुशखबरी, कम हो सकते हैं किराये

लाइव सिटीज डेस्क : रेलवे आपके लिए गुड न्यूज ला सकती है. सूत्रों की मानें तो वह बड़ी खुशखबरी देने की तैयारी कर रही है. यह खुशखबरी किराये से जुड़ी है. ऐसा संकेत मिल रहा है कि रेलवे के किरायों में कुछ राहत मिल सकती है. किराये कम किये जा सकते हैं.

सूत्रों की मानें तो रेलवे अपने फ्लेक्सी फेयर टिकट सिस्टम की समीक्षा कर रही है. इसमें इस पर मनन चल रहा है कि कुछ ट्रेनों में टिकटों के मूल्यों में कटौती हो सकती है. सूत्रों का यह भी कहना है कि यदि ऐसा हुआ भी तो भी इसकी भरपाई के लिए दूसरी ट्रेनों के किराये नहीं बढ़ाये जायेंगे.

बता दें कि एलीट ट्रेनों मसलन राजधानी, शताब्दी, दुरंतो आदि गाड़ियों में फ्लेक्सी फेयर टिकट सिस्टम लागू है. इसी सिस्टम के तहत इन ट्रेनों का किराया तय होता है. फिलहाल इसके किराये की समीक्षा चल रही है. दरअसल फ्लेक्सी फेयर सिस्टम को लागू करने के एक साल से कम समय में रेलवे को करीब 540 करोड़ रुपये की कमाई हुई है. पर बढ़े हुए किराये को लेकर यात्री शिकायत भी काफी कर रहे हैं.

इधर नये रेल मंत्री पीयूष गोयल ने शुक्रवार को मीडिया से कहा है कि यात्रियों ने फ्लेक्सी फेयर योजना के मामले को मेरे संज्ञान में लाया है. इसे गंभीरता से लिया गया है. इसमें सुधार की गुंजाइश भी है. लेकिन इसके पहले इसकी समीक्षा की जा रही है. इसमें क्या संभावनाएं हो सकती हैं, इसे टटोला जा रहा है.

हालांकि पीयूष गोयल ने यह भी कहा कि संभव है कि कुछ परिवर्तन हो. किराये कम होने के भी संकेत रेल मंत्री ने दिये हैं. लेकिन उन्होंने ने कहा है कि जो भी निर्णय होगा, वह समीक्षा के बाद ही होगा. गौरतलब है कि फ्लेक्सी फेयर टिकट सिस्टम पिछले साल 9 सितंबर को लाया गया था. इस नये सिस्टम में 10 परसेंट सीटें सामान्य किराये पर बेची जाएंगी और उसके बाद प्रत्येक 10 परसेंट सीटें भरने पर किराये में वृद्धि होती जायेगी. लेकिन नये संकेत से किराया कम होने की उम्मीद है.

इसे भी पढ़ें :

मीडिया के सामने आए यशवंत सिन्हा, बोले नोटबंदी के बाद सदमे जैसा था GST का फैसला
मौका है : AIIMS के पास 6 लाख में मिलेगा प्लॉट, घर बनाने को PM से 2.67 लाख मिलेगी ​सब्सिडी
RING और EARRINGS की सबसे लेटेस्ट रेंज लीजिए चांद​ बिहारी ज्वैलर्स में, प्राइस 8000 से शुरू
चांद बिहारी अग्रवाल : कभी बेचते थे पकौड़े, आज इनकी जूलरी पर है बिहार को भरोसा
(लाइव सिटीज मीडिया के यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)