पढ़ लीजिये RBI का नया गाइडलाइन, ऑनलाइन फ्रॉड के शिकार ग्राहकों को मिलेगी राहत

लाइव सिटीज डेस्क : भारतीय रिज़र्व बैंक के नए गाइडलाइन में आम लोगों के लिए बड़ी राहत हैं. बैंक खाते में ऑनलाइन फ्रॉड के दौरान नुक़सान होने पर अब खामियाज़ा ग्राहक नहीं बल्कि बैंक उठाएगा. इसके लिए ऑनलाइन फ्रॉड के तीन दिन के भीतर बैंक से शिकायत करनी होगी.

अगर आपकी जानकारी और अनुमति के बगैर नेट बैंकिंग के जरिये आपके बैंक खाते से पैसे कट जाते है तो तीन दिन के भीतर इसकी जानकारी बैंक को देने पर आपको नुकसान नहीं होगा. भारतीय रिजर्व बैंक के अनुसार ऐसी स्थिति में आपके खाते में फ्रॉड के चलते निकाली गई धनराशि दस दिन के भीतर वापस जमा कर दी जाएगी.

रिजर्व बैंक का कहना है कि अगर ग्राहक अनधिकृत रूप से निकाली गई राशि की जानकारी चार से सात दिन के भीतर देता है तो उसकी खुद की जिम्मेदारी होगी बशर्ते यह राशि 25000 रुपये तक हो. इससे ज्यादा नुकसान की भरपाई बैंक करेंगे. लेकिन ग्राहक की लापरवाही जैसे अपने खाते की जानकारी किसी दूसरे को बताने के कारण नुकसान होता है तो इसका नुकसान उसे खुद उठाना पड़ेगा.
जिस दिन आप शिकायत करेंगे, उसके 10 दिन के भीतर अंदर वह रकम आपके खाते में क्रेडिट हो जाएगी. इंटरनेट बैंकिंग वाले कस्टमर्स के अकाउंट और कार्ड से अनअथॉराइज्ड ट्रांजैक्शन के बढ़ते मामलों को देखते हुए आरबीआई ने ये गाइडलाइन जारी किया है. ऑनलाइन फ्रॉड की घटनाओं से बचने के लिए आरबीआई ने हर ट्रांजैक्शन पर एसएमएस और ईमेल अलर्ट जरूरी कर दिया है. साथ ही अलर्ट पर एक रिप्लाई का ऑप्शन भी होगा.

यह भी पढ़ें – NSIT और IOB के बीच MOU, शिक्षा ऋण में नहीं होगी परेशानी
रेलवे आपको देने वाला है एक और झटका, पढ़ लीजिए फायदे में रहेंगे...

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*