फ्लिपकार्ट की 850 मिलियन की पेशकश को स्नैपडील ने ठुकराया

लाइव सिटीज डेस्क (गणेश/गौतम) : स्नैपडील बोर्ड ने देश के बड़े ई-कॉमर्स प्रतिद्वंद्वी फ्लिपकार्ट के 800-850 मिलियन अमरीकी डालर (लगभग 5,500 करोड़ रूपए) का अधिग्रहण प्रस्ताव को खारिज कर दिया है. सूत्रों के मुताबिक, फ्लिपकार्ट ने स्नैपडील को खरीदने के लिए 800-850 मिलियन अमरीकी डालर की पेशकश की है. हालांकि, स्नैपडील के बोर्ड ने इस प्रस्ताव को खारिज कर दिया था,  कंपनी की माने तो यह राशि कंपनी के लिए कम आकी गयी है.

एक सूत्र ने कहा, “पहले प्रस्ताव को अस्वीकार कर दिया गया था, लेकिन बातचीत अभी भी चल रही है. यह एक चल रही चर्चा है.” स्नैपडील सॉफ्टबैंक और फ्लिपकार्ट ने इस मामले में टिप्पणी करने से इनकार कर दिया है. स्नैपडील के सबसे बड़े निवेशक सॉफ्टबैंक, पिछले कुछ महीनों से लगातार बिक्री में मध्यस्थता कर रही थी. बोर्ड ने स्नैपडील के संस्थापकों (कुणाल बहल और रोहित बंसल), एनवीपी और कालारी कैपिटल से बात-चीत की है. अर्नेस्ट एंड यंग, ​​जो फ्लिपकार्ट द्वारा स्नैपडील मसौदे पर कार्य करने के लिए नियुक्त किया गया था ने कुछ दिन पहले अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत की, जिसके बाद यह प्रस्ताव स्नैपडील दिया गया था.

स्नैपडील और फ्लिपकार्ट के बीच का समझौता अगर पूरा हुआ, तो भारतीय ई-कॉमर्स क्षेत्र में यह सबसे बड़ा अधिग्रहण होगा. भारतीय ई-कॉमर्स क्षेत्र में स्नैपडील,अमेज़ॅन और फ्लिपकार्ट को कड़ी टक्कर देने में अभी तक उतनी सफल नहीं रही है. फरवरी 2016 में 6.5 अरब अमरीकी डालर के मूल्यांकन के मुकाबले, फ्लिपकार्ट की बिक्री में स्नैपडील के मूल्य लगभग 1 बिलियन अमरीकी डॉलर का था. स्नैपडील को पहले से ही सॉफ्टबैंक ने एक अरब डॉलर से अधिक का कर्ज माफ़ कर चुका है.

यह भी पढ़ें – हजारों एंप्लॉयीज हो सकते हैं बेरोजगार, माइक्रोसॉफ्ट में छंटनी की मार!