घरेलू उड़ानों की इकोनॉमी क्लास में एयर इंडिया अब नहीं सर्व करेगी नॉन वेज फूड

लाइव सिटीज डेस्क: घाटे में चल रही एयर इंडिया अब खर्च में कटौती कर घाटा से उबरने के प्रयासों में लग गयी है. इसी मुहिम के तहत अब घरेलू उड़ानों की इकोनॉमी क्लास के पैसेंजर्स को अब नॉनवेज फूड नहीं सर्व किया जाएगा.

एयर लाइन के एक अधिकारी के मुताबिक, यह निर्णय गत माह लिया गया था. एयर लाइन की ओर से जारी एक बयान के मुताबिक, ‘एयर इंडिया ने काफी सोच—समझकर फैसला लिया है कि कैटरिंग सर्विस को बेहतर बनाने और खर्च और फिजूलखर्ची पर रोक लगाने के लिए घरेलू उड़ान के इकोनॉमी क्लास के पैसेंजर्स को नॉनवेज फूड सर्व नहीं किया जाएगा.’
गौरतलब है कि भारत की यह विमान सेवा पहले ही काफी घाटे में चल रही है. एक अनुमान के मुताबिक, इकोनॉमी क्लास में नॉन वेज फूड न देने के इस निर्णय से एयर लाइन्स को सालाना 10 करोड़ रूपये की वचत हो पाएगी. बताया गया है कि एयर लाइन्स को सिर्फ कैटरिंग सर्विस पर ही 350—400 करोड़ रूपये का सालाना खर्च आता है.

यहां यह स्पष्ट कर देना जरूरी होगा कि यह रोक का यह नियम सिर्फ घरेलू उड़ान के इकोनॉमी क्लास के पैसेंजर्स पर ही प्रभावी होगा. बिजनेस क्लास या फर्स्ट क्लास के पैसेंजर्स के लिए यह सेवा पूर्ववत सुलभ रहेगी. अंतरराष्ट्रीय उड़ानों में भी ऐसी कोई बंदिश नहीं रहेगी और पैसेंजर्स नॉनवेज जायकों का आनंद पहले ही की तरह लेते रहेंगे. यहां यह भी बता देना भी उचित होगा कि यह निर्णय किसी राजनीतिक हस्तक्षेप के बाद नहीं लिया गया है बल्कि बिशुद्ध खर्च में कटौती को ध्यान में रखकर लिया गया है. भाजपा नेता सैयद जफर इस्लाम जो कि एयर इंडिया के नॉन आॅफिशियल इंडिपेंडेंट डायरेक्टर हैं, ने इस संबंध में वक्तव्य दिया है.

वहीं एयर पैसेंजर्स एसोसिएशन आॅफ इंडिया के प्रेसीडेंट डी. सुधाकर रेड्डी ने इस निर्णय को भेदभावपूर्ण बताया है और कहा है कि यह स्वीकार्य नहीं होगा. उन्होंने कहा है कि यह तो समान विमान सेवा और उड़ान के पैसेंजर्स के बीच सरासर भेदभाव है. क्लास के आधार पर ऐसा भेदभाव उचित नहीं है.

बहरहाल घरेलू उड़ानों में इकोनॉमी क्लास के पैसेंजर्स को वेज फूड का जायका लेने के लिए तैयार रहना चाहिए.

 

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*