यात्रीगण ध्यान दें, 1 मई से बदलने जा रहा है रेलवे टिकट रिजर्वेशन का ये नियम

लाइव सिटीज, सेन्ट्रल डेस्क: भारतीय रेलवे अक्सर यात्रियों की सुविधा को लेकर कई तरह के बदलाव करता रहा है. अपने यात्रियों की सुविधा को बेहतर बनाने के लिए भारतीय रेलवे एक और बड़ा कदम उठाने जा रहा है. ट्रेन में यात्रा के लिए टिकट बुक कराते समय आपने जिस बोर्डिंग स्टेशन को चुना है, लेकिन बाद में इस स्टेशन को बदलवाना चाहते हैं, तो अब 1 मई से यह काम आसानी से हो जाएगा.

दरअसल रेलवे ने यात्रियों की सुविधा के लिए ये बदलाव किया हैं लेकिन इसमें एक शर्त भी है. रेलवे के नए नियम के अनुसार  इस तरह टिकट पर कैंसल कराने पर रिफंड नहीं मिलेगा. आगामी 1 मई से रेलवे के टिकटिंग से जुड़े नियमों में कई बदलाव होने वाले हैं.1 मई से ट्रेन के चार्ट बनने से चार घंटे पहले तक आप अपना  बोर्डिंग स्टेशन बदलवा सकेंगे. अभी इसे सिर्फ 24 घंटे पहले तक ही बदला जा सकता है परन्तु नए नियम के अनुसार चार्ट बनने से पहले तक ये बदला जा सकेगा . यात्रा के बोर्डिंग स्टेशन में बदलाव किया जाता है, तो टिकट कैंसिलेशन पर उसे पैसा रिफंड नहीं दिया जाएगा.

भारतीय रेलवे द्वारा किये जा रहे इस बदलाव से यात्रियों को काफी लाभ मिलेगी, क्योकि अभी अभी टिकट बुकिंग के दौरान बोर्डिंग स्टेशन का चयन करने के बाद दोबारा बोर्डिंग स्टेशन में बदलाव नहीं किया जा सकता है, परन्तु 1 मई से लागू होने वाले इस नए नियम के अंतर्गत अगर आपने टिकट बुक कराते समय बोर्डिंग स्टेशन का चयन किया है, लेकिन बाद में आप इसमें बदलाव करना चाहते हैं. तो आप यह बदलाव दोबारा भी कर सकते हैं. हालांकि टिकट कैंसिलेशन पर उसे पैसा रिफंड नहीं दिया जाएगा.

जानिये कैसे करें बदलाव
जिन यात्रियों के पास टिकट की हार्ड कॉपी है उन्हें ओरिजनेटिंग स्टेशन (जहां से ट्रेन चलना शुरू होती है) पर लिखित में आवेदन करना होगा. जिन यात्रियों के पास ई-टिकट है वे IRCTC की वेबसाइट पर जाकर पहला चार्ट तैयार होने से पहले अपना बोर्डिंग स्टेशन चेंज कर सकते हैं. इसके अलावा जो यात्री इन दोनों में से कोई भी तरीका नहीं अपना सकते, वे रेलवे को 139 नंबर पर कॉल करके बोर्डिंग स्टेशन बदलने की रिक्वेस्ट कर सकते हैं. हालांकि, यह फोन भी ट्रेन के चलने से चार घंटे पहले करना होगा. इसके लिए यात्रियों को कोई अतिरिक्त शुल्क भी नहीं देना होगा.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*