बदल जाएगा एमएस धोनी का ‘बल्ला’, जानिए क्या है वजह

लाइव सिटीज डेस्क : एमएस धोनी की बल्लेबाजी के सभी दीवाने हैं. जब भी वह अपने बल्ले के साथ मैदान पर उतरते हैं पूरा स्टेडियम ‘धोनी-धोनी’ से गूंज उठता है. जब धोनी बल्ले को लेकर मैदान पर उतरते तो गेंदबाज़ों में खौफ पैदा हो जाता था. लेकिन अब धोनी का वह बल्ला बदल जायेगा.

बता दें कि टीम इंडिया के पूर्व कप्तान एमएस धोनी समेत डेविड वॉर्नर, क्रिस गेल और कायरन पोलार्ड जैसे दिग्गज़ों को वो बल्ला बदलना पड़ेगा. मेलबर्न क्रिकेट क्लब (एमसीसी) ने मार्च में जो गाइडलाइंस जारी की थीं, उसके मुताबिक इन क्रिकेटरों के बैट के निचले हिस्से के किनारों की सीमा 40एमएम ही होगी.

क्रिकेट की दुनिया में गेंद और बल्ले का मुकाबला समान करने के लिए कुछ नए नियम बनाए गए हैं. क्रिकेट का ये बदला नियम 1 अक्टूबर से लागू होगा जिसके बाद इन सभी बल्लेबाज़ों को अपने बल्ले का आकार बदलना होगा.

हालांकि इस बदले नियम से भारतीय कप्तान विराट कोहली को कोई परेशानी नहीं होगी. कैप्टन विराट का बैट नए नियमों के अनुसार फिट बैठता है. विराट के अलावा साउथ अफ्रीका के एबी डि विलियर्स, ऑस्ट्रेलिया के स्टीव स्मिथ और इंग्लैंड के जो रूट के बैट की मोटाई 40एमएम से कम है. जिससे नए नियम से इन दिग्गज़ों को कोई परेशानी नहीं होगी.

टीम इंडिया के पूर्व कप्तान एमएस धोनी लंबे समय से 45 एमएम की मोटाई वाले बल्ले से खेल रहे हैं. वहीं ऑस्ट्रेलिया के स्टार डेविड वॉर्नर, क्रि गेल और कायरन पोलार्ड के बैट की मोटाई 50 एमएम से ज्यादा है. हालांकि टीम इंडिया में धोनी को छोड़ अन्य किसी भी स्टार बल्लेबाज़ का बल्ला इस नियम से बचा हुआ है.

इन दिग्गज़ों में पोलार्ड ने अपना बैट पहले ही बदल लिया है. आईपीएल के दौरान उन्होंने पत्रकारों से कहा था कि अक्टूबर तक रुकने का ‘कोई मतलब’ नहीं है.  कप्तान विराट कोहली समेत शिखर धवन, चेतेश्वर पुजारा, केएल राहुल जैसे बल्लेबाज़ 40एमएम या उससे कम मोटाई के बैट से खेलते हैं. जबकि ऑस्ट्रेलियाई कप्तान स्टीन स्मिथ, एबी डीविलियर्स और जो रूट जैसे स्टार बल्लेबाज़ 40एमएम या उससे कम मोटाई वाले बैट से ही खेलते हैं.

यह भी पढ़ें – कोलकाता में क्रिकेटर मोहम्मद शमी से बदसलूकी, घर में घुसकर मारने की कोशिश