आज के दिन ही पहला वनडे खेला था टीम इंडिया ने

लाइव सिटीज डेस्क : भारत में 1848 में पहली बार पारसियों ने मुंबई में पहला क्रिकेट क्लब खोला था. लेकिन इसके 64 साल बाद पहली बार भारतीय टीम का अस्तित्व सामने आया और 1912 में हिन्दू, मुस्लिम, सिख और पारसियों के बीच क़्वार्डरेगुलर टूर्नामेंट खेला गया जिसमें यूरोपियन टीम ने भी हिस्सा लिया था.
इस टूर्नामेंट के बाद पहली बार भारतीय टीम का गठन किया गया. इसके बाद 1932 में भारतीय टीम ने केसी नायडू के नेतृत्व में इंग्लैंड में जाकर पहली बार इंटरनेशनल टेस्ट मैच खेला और इस पहले टेस्ट मैच में टीम अच्छा नहीं कर पाई और इंग्लैंड के हाथों 185 रनों से हार गई. साल 1974 में 13 जुलाई के दिन भारतीय क्रिकेट टीम ने इंग्लैंड के खिलाफ अपना पहला वनडे मैच खेला था.
लीड्स के हेडिंग्ले में हुए इस मैच में बेशक भारतीय टीम को हार का मुंह देखना पड़ा हो लेकिन कई मामले में ये काफी रोमांचक रहा.एल वाडेकर की कप्तानी में खेले गए इस मैच में पहली बैटिंग भारतीय टीम ने की और ओपनिंग सुनील गावस्कर और एसएस नायक ने की थी. 80 के स्ट्राइक रेट से सुनील गावस्कर ने इस मैच में 35 गेंदों पर 28 रन की पारी खेली थी. उन्होंने इस दौरान 3 चौके और 1 छक्का भी जड़ा था.
बीपी पटेल और वाडेकर की शानदार बल्लेबाजी इंग्लैंड ने बेशक इस मैच में भारत को 4 विकेट से मात दी हो, लेकिन बीपी पटेल ने 82 और अजीत वाडेकर ने 67 रन की पारी खेली थी. ये मैच कप्तान अजीत वाडेकर और बीपी पटेल दोनों के लिए वनडे डेब्यू मैच था. पहले ही मैच में उन्होंने शानदार बल्लेबाजी की थी. इन दोनों अर्धशतक की बदौलत भारतीय टीम ने कुल 265 रन पूरे किए. 55 ओवरों में 4.92 की औसत ने टीम ने इंग्लैंड को लक्ष्य दिया था.
जेएच एडरिच ने छीनी टीम
266 के स्कोर का पीछा करने उतरी इंग्लैंड की टीम से ओपनिंग डीएल एमिस और डी लॉयड ने की थी. 37 रन पर एमिस के आउट होने के बाद आए जेएच एडरिच ने जो प्रदर्शन किया, वो इतिहास बन गया.एडरिच ने 97 गेंदों पर 90 रनों की पारी खेली थी. इस पारी के दौरान उन्होंने 6 चौके और 1 छक्का लगाया था. उनके इस प्रदर्शन के लिए उन्हें मैन ऑफ द मैच चुना गया था.
यह भी पढ़े – सीनियर राष्ट्रीय रग्बी चैंपियनशिप 11 अगस्त से पटना में, दिव्यांगों का भी चैंपियनशिप