IPL 10 : दिल्ली ने मैच जीता, युवराज सिंह ने जीत लिया सबका दिल

लाइव सिटीज डेस्क :  क्रिकेट को जैंटलमैंस का गेम कहते हैं. आईपीएल 10 के 40वें मैच में युवराज सिंह ने इस बात को सच भी साबित कर दिया है. इन दिनों जहां क्रिकेट में स्लेजिंग के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं, वहीं युवराज ने मंगलवार को दिल्ली नाइटराइडर्स के खिलाफ मैच में एक ऐसा काम कर दिया है, जिससे उनकी तारीफ हर ओर हो रही है. पहले कोलकाता के साथ हुए मैच में उन्होंने रॉबिन उथप्पा और सिद्धार्थ कौल के बीच हुई झड़प को बड़े भाई की तरह संभाला. अब मंगलवार को दिल्ली के साथ हुए मैच में युवराज ने फिर एक बार अपने खेल और परिपक्व व्यवहार से सबका दिल जीत लिया.

मंगलवार को हुए मैच में दिल्ली डेयरडेविल्स की टीम ने सनराइजर्स हैदराबाद को 6 विकेट से हरा जीत हासिल की.  इस मैच में युवी ने शानदार अर्धशतक जमाते हुए 41 बॉल पर 70 रन की नाबाद पारी खेली. हालांकि, इसके बाद भी उनकी टीम ये मैच हार गई. लेकिन फिर भी मैच में उन्होंने ऐसा कुछ कर दिया, जिसके बाद उनकी खूब तारीफ हो रही है.

दरअसल, मैच में दिल्ली की इनिंग के दौरान युवराज सिंह क्रिकेटर ऋषभ पंत के जूते के फीते बांधते हुए नजर आए. जबकि वे उनसे कहीं ज्यादा जूनियर हैं. क्रिकेट मैचों में रनिंग के दौरान बैट्समैन के शू-लेस खुल जाना काफी नॉर्मल है. जिसे वे आसपास खड़े फील्डर से बंधवा लेते हैं. लेकिन ऐसा कम ही होता है जब कोई सीनियर क्रिकेटर अपने से काफी जूनियर क्रिकेटर के शू-लेस बांध दे.

yuvraj-singh

यह देखकर स्टेडियम में बैठे दर्शक और कॉमेंट्री कर रहे लोगों ने भी युवराज सिंह की तारीफ की. इस तस्वीर को आईपीएल के ट्विटर अकाउंट से भी शेयर किया गया है. युवी के इस व्यवहार की सोशल मीडिया पर काफी तारीफ हो रही है. बता दें कि ऋषभ पंत आईपीएल 10 में दिल्ली की टीम की तरफ से आतिशी बल्लेबाजी कर रहे हैं. पंत युवराज से काफी जूनियर हैं. इसके बावजूद उन्होंने बिना किसी झिझक के उनकी मदद की. इस मैच में दिल्ली ने हैदराबाद को 6 विकेट से हराया. युवराज सिंह ने मैच में नाबाद 70 रन बनाए और अपनी पारी से उन्होंने प्रशंसकों और खेल प्रेमियों का दिल जीत लिया.

यह भी पढ़ें – पत्थरबाजों को ‘क्लीन बोल्ड’ करती कश्मीर की रूबिया सईद
IPL : अगले सीजन में गुजरात और पुणे हाेंगे आउट, चेन्नई और राजस्थान इन

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*