एशियन जूनियर चेस चैंपियनशिप : बिहार को मिल सकता है पहला ग्रैंड मास्टर!

bihar-chess

लाइव सिटीज डेस्क : बिहार के एक छोटे से जिले अररिया से निकल कर अपने देश और गाँव का नाम रोशन करने वाले ये बच्चे आज किसी पहचान के मोहताज नहीं हैं. मैला आंचल की धूल में भी अथाह ताकत है. इस बात को साबित कर दिखाया है अररिया की माटी के लाल कुमार गौरव ने. ईरान के शिराज में आयोजित एशियन जूनियर चेस चैंपियनशीप 2017 में कुमार गौरव भारत का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं.

कुमार गौरव ने राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय शतरंज की कई स्पर्धाओं को जीतकर यह साबित कर दिया है कि बिहार में प्रतिभाओं की कमी नहीं है. अगर कुमार गौरव यह प्रतियोगिता जीत जाते हैं तो बहुत जल्द ही भारत को 20वां ग्रैंड मास्टर मिलेगा जबकि बिहार को यह पहला ग्रैंड मास्टर मिलेगा. अररिया के लोगों के लिए बहुत गर्व की बात है कि एक ही पिता के दो बेटे भविष्य में ग्रैंड मास्टर बन सकते हैं जो अररिया ही नहीं, पूरे देश के लिए गर्व की बात होगी.

अररिया जिला वासियों को उनकी इस उपलब्धि पर गर्व है. ऐसा पहली बार हुआ है कि अररिया का कोई नौजवान एशिया स्तर की किसी प्रतियोगिता में भारत का प्रतिनिधित्व कर रहा है. कुमार गौरव को बिहार का पहला इंटरनेशनल मास्टर ना‌र्म्स हासिल करने का श्रेय भी प्राप्त है.

bihar-chess

गौरव के पिता व अधिवक्ता देवनंदन दिवाकर ने बताया कि गौरव ने नेशनल जूनियर चेस चैंपियनशिप 2016 में प्रथम स्थान प्राप्त कर राष्ट्रीय चैंपियन का खिताब हासिल किया, जिस कारण उसे यह मौका मिला है. ज्ञात हो कि गौरव के छोटे भाई सौरव एवं बहन गरिमा भी शतरंज की उत्कृष्ट खिलाड़ी हैं तथा कम उम्र में ही देश व देश के बाहर कई खिताब जीतने में सफल हो चुके हैं.

यह भी पढ़ें – Exclusive Interview : मैथिली ने कहा- गायिकी मेरा जुनून, बनना चाहती हूं IAS
Great Mathematician : आज ये बस टुकुर-टुकुर देख रहे हैं, कभी इनके ब्रेन पर गर्व करता था पूरा देश
दही वाले के बेटे ने लहराया परचम, JEE Mains किया क्रेक
कल्पित वीरवाल: कामयाबी है जिनके कदमों की चेरी