IPL 10 : महेंद्र सिंह धोनी के नाम बन रहा ये खास रिकॉर्ड

MS-Dhoni

लाइव सिटीज डेस्क : इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) का 10वां सीजन अपने आखिरी पड़ाव पर पहुंच चुका है. प्लेऑफ का पहला मैच आज मुंबई इंडियंस और राइजिंग पुणे सुपरजायंट के बीच खेला जाना है. जीतने वाली टीम को आईपीएल-10 के फाइनल का टिकट मिल जाएगा और हारने वाली टीम को फाइनल में पहुंचने का एक और मौका मिलेगा. लीग मैच में दो बार दोनों टीमें भिड़ीं और दोनों बार ही जीत राइजिंग पुणे सुपरजायंट के खाते में गई.



इस जीत के साथ ही पुणे ने आईपीएल की आठ टीमों की तालिका में दूसरा स्थान हासिल किया है. पुणे (18 अंक) के अलावा मुम्बई इंडियंस (20) , सनराइजर्स हैदराबाद (17) और कोलकाता नाइट राइडर्स (16) भी प्लेऑफ में पहुंची है. पंजाब को हराकर प्लेऑफ में जगह बनाने के साथ-साथ टीम इंडिया के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने गुजरात लायंस के कप्तान सुरेश रैना के एक खास रिकॉर्ड की भी बराबरी कर ली है.

MS-Dhoni

साल 2008 से 2015 तक धोनी के साथ चेन्नई सुपर किंग्स में कंधे से कंधा मिलाकर सुरेश रैना प्लेऑफ में पहुंचे थे. इसके बाद साल 2016 में चेन्नई पर प्रतिबंध बता दें कि दूसरा सीजन खेल रही पुणे पहली बार प्लेऑफ में पहुंची है. आईपीएल में यह नौवां मौका है, जब धोनी की टीम प्लेऑफ में पहुंचने में सफल रही है. इससे पहले धोनी की कप्तानी में चेन्नई सुपर किंग्स लगातार आठ बार प्लेऑफ राउंड में पहुंचने में सफल रही थी. साल 2009 में पुणे सुपर जाइंट धोनी के नेतृत्व में प्लेऑफ में जगह नहीं बना सकी थी. 9वीं बार प्लेऑफ में पहुंचने वाले धोनी दूसरे खिलाड़ी हैं.

लगने के बाद रैना के नेतृत्व वाली गुजरात लायंस प्लेऑफ में पहुंची थी, लेकिन धोनी की पुणे चूक गई. रैना को नवीं बार प्लेऑफ में खेलने का मौका मिल गया था. लेकिन दसवें सीजन में धोनी ने रैना की बराबरी कर ली. रैना की टीम को इस बार सातवें स्थान से संतोष करना पड़ा है.

आईपीएल में राइजिंग पुणे सुपरजाएंट के खिलाड़ी महेंद्र सिंह धोनी ने आईपीएल में विकेट के पीछे 100 शिकार करने का आंकड़ा छू लिया है. धोनी ने यह उपलब्धि रविवार को किंग्स इलेवन पंजाब और राइजिंग पुणे सुपरजाइंट के बीच पुणे में खेले गए मैच के दौरान हासिल की.

किंग्स इलेवन पंजाब की पारी के 11.3 ओवर में डैन क्रिस्टियन की गेंद पर धोनी ने अक्षर पटेल का कैच पकड़ते ही यह कारनामा कर दिखाया. इस मैच से पहले धोनी के नाम विकेट के पीछे 156 मैचों में 98 शिकार थे. इसमें उन्होंने 30 बल्लेबाजों को स्टंप आउट किया और 68 बार बल्लेबाजों को विकेट के पीछे लपका था.

महेंद्र सिंह धोनी यहीं नहीं रुके इसके बाद उन्होंने 13.4 ओवर में उनादकट की बॉल पर स्वप्निल सिंह का कैच पकड़कर अपने कुल यह आंकड़ा 101 तक पहुंचा दिया. महेंद्र सिंह धोनी ने शुरू के 8 आईपीएल में चेन्नई सुपरकिंग्स की कप्तानी की. धोनी ने अपनी कप्तानी में टीम को 3 बार आईपीएल का खिताब भी जिताया.

यह भी पढ़ें – T 20: फाइनल का टिकट कटाने के लिए आज मुंबई-पुणे होंगे आमने-सामने
केसीए के चेयरमैन संजय कपूर पर गबन का मामला दर्ज