सहवाग के दावेदारी पर भारी पड़े रवि शास्त्री, बने टीम इंडिया के हेड कोच

लाइव सिटीज डेस्क: टीम इंडिया का अगला कोच कौन होगा, इस पर आखिरी फैसला हो गया है. रवि शास्त्री को टीम इंडिया का नया कोच चुन लिया गया है. सोमवार को सौरव गांगुली, वीवीएस लक्ष्मण और सचिन तेंदुलकर की सलाहकार समिति ने सभी 5 कैंडिडेट्स का इंटरव्यू लिया था. इन पांच लोगों में रवि शास्त्री, वीरेंद्र सहवाग, रिचर्ड पायबस, लालचंद राजपूत और टॉम मूडी शामिल हैं. आखिरी मुकाबला शास्त्री और सहवाग के बीच माना जा रहा था, लेकिन अंतिम मुहर रवि शास्त्री के नाम पर लगी. रवि शास्त्री श्रीलंका दौरे से टीम इंडिया के साथ रहेंगे. उनका कार्यकाल वर्ल्ड कप 2019 तक है.

पूर्व इंडियन क्रिकेट रवि शास्त्री स्काइप के जरिए इंटरव्यू के लिए जुड़े थे. जून में खत्म हुई आईसीसी चैम्पियंस ट्रॉफी के बाद से ही शास्त्री लंदन में हैं. बता दें कि मुंबई में बीसीसीआई के ऑफिस में ये इंटरव्यू प्रॉसेस हुई थी. इसमें बीसीसीआई की एडवाइजरी कमेटी के दो सदस्य सौरव गांगुली और वीवीएस लक्ष्मण मौजूद थे, जबकि सचिन तेंडुलकर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए जुड़े थे.


सबसे मजबूत था रवि शास्त्री का दावा
रवि शास्त्री 2014 में इंग्लैंड के टूर से लेकर मार्च, 2016 में हुए टी20 वर्ल्ड कप तक टीम इंडिया के डायरेक्टर रहे. इसी दौरान 2015 वनडे वर्ल्ड कप में टीम इंडिया सेमीफाइनल तक पहुंची.इंटरव्यू के बाद सीएसी कमेटी और पूर्व कप्तान सौरव गांगुली ने कहा कि सभी उम्मीदवारों का प्रजेंटेशन बढ़िया रहा, लेकिन कुछ भी नया नहीं था. गौरतलब है कि इन पांच नामों में से रवि शास्त्री और टॉम मूडी एक साल पहले भी टीम इंडिया के पूर्व कोच अनिल कुंबले के साथ इंटरव्यू दे चुके हैं. उस समय क्रिकेट एडवायजरी कमिटी ने रवि शास्त्री और टॉम मूडी को खारिज कर अनिल कुंबले को टीम इंडिया का कोच चुना था.


विनोद राय ने आज ही कोच चुनने को कहा था
COA के चीफ विनोद राय ने मंगलवार को बीसीसीआई को कहा कि वो शाम तक कोच के नाम की घोषणा करें. हालांकि, एडवाइजरी कमेटी के मेंबर सौरव गांगुली ने सोमवार को कोच पद के लिए इंटरव्यू लेने के बाद कहा था कि हमने फैसला किया है कि हम कुछ समय के लिए कोच पद के नाम की घोषणा को रोकेंगे. हमें इसके लिए कुछ और दिनों की जरूरत है और साथ ही हम कुछ संबंधित लोगों से बात करना चाहते हैं. इसके बाद हम अंतिम फैसला लेते हुए कोच के नाम का ऐलान करेंगे.

हम इस समय किसी भी तरह की जल्दबाजी में नहीं हैं. सीओए के अध्यक्ष विनोद राय हैं और इसके सदस्यों में विक्रम लिमिए और डायना इडुल्जी शामिल हैं. कोच की दौड़ में शास्त्री का नाम सबसे आगे पहले से ही माना जा रहा था. इसकी वजह कप्तान कोहली और शास्त्री के संबंध हैं. कोहली, शास्त्री के पक्ष में खड़े हैं.


गौरतलब है कि अनिल कुंबले ने कप्तान कोहली से मतभेद की बात स्वीकार करते हुए अपने पद से इस्तीफा दे दिया था. उनका कार्यकाल 18 जून को संपन्न हुए आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी तक का था, बोर्ड ने विंडीज दौरे तक उनके कार्यकाल को विस्तार दिया था. लेकिन, कुंबले ने अचानक इस्तीफा दे दिया और विंडीज दौरे पर भारतीय टीम के साथ नहीं गए थे. एक बार फिर कहा है कि कोच के नाम का एलान बिना कप्तान विराट कोहली से बात किए बिना नहीं हो सकता. सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित कमेटी ऑफ एडवाइजर्स यानी सीओए ने टीम इंडिया के नए कोच के गठन पर बीसीसीआई को मंगलवार की शाम ही घोषणा करने को कहा था. गौरतलब है कि बीसीसीआई की सीएसी यानी क्रिकेट एडवायजरी कमेटी पर टीम इंडिया के नए कोच का चुनाव करने की जिम्मेदारी है.

इस कमेटी में सचिन तेंडुलकर, सौरव गांगुली और वीवीएस लक्ष्मण हैं.