चैम्पियंस ट्रॉफी : PAK समेत 7 देशों ने कर दिया टीम का ऐलान, भारत ने नहीं की घोषणा

2_444-cricket

लाइव सिटीज डेस्क : पाकिस्तान ने जून में होने वाली चैम्पियंस ट्रॉफी के लिए मंगलवार को अपनी 15 सदस्यीय टीम की घोषणा कर दी है, पाकिस्तान को ग्रुप-बी में रखा गया है. वह चैम्पियंस ट्रॉफी में अपना पहला मैच चिर प्रतिद्वंद्वी भारत के खिलाफ चार जून को खेलेगी. इस ग्रुप में भारत और पाकिस्तान के अलावा दक्षिण अफ्रीका और श्रीलंका भी हैं. वहीं भारतीय क्रिकेट बोर्ड ने चैम्पियन्स ट्रॉफी के लिए 25 अप्रैल की समय सीमा तक अपनी टीम घोषित नहीं की जबकि सात अन्य देशों ने टूर्नामेंट के लिए टीमों की घोषणा कर दी है.

 

दरअसल 25 अप्रैल इसके लिए अंतिम तारीख थी. टीम इंडिया को छोड़कर सभी देशों ने अपनी टीमों की घोषणा कर दी है. टीम इंडिया के स्क्वाड के लिए हमें अभी कुछ दिन इंतजार करना पड़ सकता है. इसका कारण आईसीसी के साथ राजस्व विवाद है, जिसका निपटारा अभी नहीं हुआ है. बीसीसीआई के अनुसार यदि उसके अनुरूप निर्णय नहीं होता है, तो इस टूर्नामेंट से बाहर होने पर भी विचार कर सकता है.

2_444-cricket

टूर्नामेंट की शुरुआत एक जून से होगी. फिलहाल आइए जानते हैं कि पाकिस्तान सहित अन्य क्रिकेट बोर्डों ने अपनी टीम में किन खिलाड़ियों को जगह दी है. टूर्नामेंट में टीमों को दो ग्रुपों में बांटा गया है. प्रत्येक ग्रुप से टॉप पर रहने वाली दो टीमें सेमीफाइनल में पहुंचेंगी. ग्रुप-ए में इंग्लैंड, बांग्लादेश, श्रीलंका और न्यूजीलैंड हैं, जबकि ग्रुप-बी में ऑस्ट्रेलिया, भारत, पाकिस्तान और दक्षिण अफ्रीका हैं. देखा जाए तो भारत का ग्रुप सबसे मुश्किल है.

यह भी पढ़ें- भारत में अब ‘प्रो बॉक्सिंग लीग’ की बारी, लॉन्च करेंगे आमिर खान

फिलहाल बीसीसीआई टूर्नामेंट से हटने के कड़े कदम के बारे में नहीं सोच रहा, लेकिन बेशक टीम की घोषणा नहीं करने को दबाव की रणनीति के रूप में देखा जा रहा है. देर शाम तक बीसीसीआई ने आधिकारिक तौर पर समय सीमा में विस्तार की मांग नहीं की है जिसे कई लोग अवज्ञा के रूप में देख सकते हैं.

बीसीसीआई के आला अधिकारियों का मानना है कि टीम का चयन महज औपचारिकता है क्योंकि अधिकांश खिलाड़ियों की जगह पक्की है. बोर्ड के एक शीर्ष अधिकारी ने पूछा,‘‘ मुझे एक बात बताओ कि अगर हम टीम पांच मई को भी घोषित करते हैं तो क्या आईसीसी हमें खेलने से रोकेगा. हमारे पास टीम तय है और नाम का ऐलान करना औपचारिकता मात्र है.’’