गुप्ता दंपति अपहरण काण्ड : सभी आरोपियों को आजीवन कारावास की सजा

गया : शहर के चर्चित चिकित्सक दंपती डॉ. पंकज गुप्ता व शुभ्रा गुप्ता अपहरण कांड में न्यायालय ने मंगलवार को आठ आरोपितों को दोषी करार दिया है. प्रथम अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश सच्चिदानंद सिंह ने आरोपित अजय सिंह, अमित कुमार सिंह, सुनील कुमार सिंह, अनिल सिंह, मृत्युंजय सिंह, विजय सिंह, राहुल कुमार सोनी उर्फ बिल्लू एवं श्रवण पासवान को अपहरण, लूट की नीयत से किए गए अपराध का दोषी पाया.

मुख्य आरोपी अजय सिंह सहित शेष अभियुक्तों को अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश सच्चिदानंद सिंह ने आजीवन कारावास की सजा तथा सभी को 50 हजार रुपए का अर्थ दंड की सजा सुनाई है. सहायक लोक अभियोजक अम्बष्ट योगानंद ने बताया कि 27 मार्च को सजा के बिंदु पर सुनवाई की जाएगी.

मांझी की दो टूक : नीतीश जी, बोधगया को स्थानीय से नहीं विदेशी मोनेस्ट्री से है खतरा

अपहरण का मामला बाराचट्टी थाना कांड संख्या 155/15 के तहत डॉ. पंकज गुप्ता के भाई नीरज कुमार के बयान पर दर्ज किया गया था. उन्होंने पुलिस को बताया था कि उनके भाई डॉ. पंकज गुप्ता गिरिडीह में शादी समारोह में गए थे. एक मई 2015 को गया लौट रहे थे. बाराचट्टी से उन्होंने फोन कर बताया था कि एक घंटे में घर पहुंच जाएंगे, लेकिन वे समय पर नहीं पहुंचे. काफी खोजबीन करने पर भी कुछ पता नहीं चला.

इसके बाद उन्होंने थाने में मुकदमा दर्ज कराया. बाद में पुलिस ने अजय सिंह एवं अन्य आरोपितों को गिरफ्तार किया. साथ ही लखनऊ के शारदा अपार्टमेंट से डॉक्टर की फॉरच्युनर कार बरामद की थी. गुप्ता दम्पत्ति को लखनऊ के शारदा अपार्टमेंट में रखा गया था. गुप्ता दम्पत्ति स्वयं ट्रेन से वापस गया लौटे थे.  गुप्ता दंपति अपहरण काण्ड को लेकर व्यवसायी समाज तथा सर्वदलीय आन्दोलन के बाद सरकार ने एसआईटी गठित कर अभियुक्तों को लखनऊ से गिरफ्तार कराया.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*