राज्य के पहले ‘सोलर सिटी’ के रुप में विकसित होगा गया

गया: भारत सरकार के नवीन और नवीकरणीय उर्जा मंत्रालय ने बिहार के गया शहर को ‘सोलर सिटी’ के रुप में विकसित करने की मंजूरी दी है. राज्य में यह सुविधा प्राप्त करनेकी मंजूरी दी है. राज्य में यह सुविधा प्राप्त करने वाला गया पहला शहर होगा. केंद्र सरकार की मंजूरी के बाद राज्य सरकार ने ब्रेडा को क्रियान्वयन के लिए जरुरी औपचारिकताएं पूरी करने में सहयोग का निर्देश दिया है. गया नगर निगम इस योजना का मुख्य नोडल एजेंसी और नगर आयुक्त नोडल पदाधिकारी होंगे.  
पांच करोड़ से होगी शुरुआत
गया को सोलर सिटी बनाने के लिए आरंभिक तौर पर पांच करोड़ की लागत लगेगी. इसके बाद योजना का विस्तार होगा. योजना का प्रारुप तैयार करने और अन्य आरंभिक कार्यों के लिए गया नगर निगम को 50 लाख रुपए दिये जाएंगे. इसमें मास्टर प्लान बनाने और सोलर सिटी सेल का प्रारुप तैयार करने में 10-10 लाख खर्च होंगे. प्रमोशनल एक्टिविटी के लिए 20 लाख रुपए का प्रावधान है. इस योजना पर केंद्र सरकार ढाई करोड़ रुपए खर्च करेगी जबकि शेष राशि गया नगर निगम और राज्य सरकार द्वारा वहन किया जाएगा. 
सबसे पहले निगम करेगी उपयोग
सोलर एनर्जी के उत्पादन के बाद सबसे पहले इसका उपयोग गया नगर निगम करेगी. निगम क्षेत्र के सभी स्ट्रीट लाईट सहित पंपिंग प्लांट एवं अपने मुख्य कार्यालय सहित शाखा दफ्तरों को रौशन किया जाएगा. इसके बाद अधिक बिजली प्राप्त होने पर अन्य स्टेक होल्डर यथा सरकारी दफ्तर, स्कूल, कॉलेज आदि को बिजली मुहैया कराया जाएगा. उत्पादन की क्षमता बढ़ाकर शहर के हर घर को सोलर उर्जा से प्राप्त बिजली मुहैय्या कराने का लक्ष्य रखा गया है.
मान्यता प्राप्त एजेंसी को आमंत्रण
भारत सरकार ने सोलर एनर्जी पर काम करने वाली देश की दो दर्जन कंपिनयों को सूचीबद्ध किया है. इन्हीं एजेंसियों को मास्टर प्लान बनाने और योजना के क्रियान्वयन के लिए निविदा के आधार पर निमंत्रित किया जाएगा. इसकी प्रक्रिया नगर आयुक्त विजय कुमार द्वारा शुरु कर दी गई है.
बनेगी शहर की कमेटी
सोलर सिटी विकसित करने से लेकर क्रियान्वयन के लिए अधिकारियों, प्रमुख नागरिकों, स्वयंसेवी कार्यकर्ताओं की कमेटी भी बनायी जाएगी. बिजली उत्पादन की स्थिति में दर निर्धारण में इस कमेटी की अहम भूमिका होगी.
क्या है उद्देश्य
गया को हेरिटेज सिटी के रुप में घोषित करने के बाद केंद्र सरकार ने अन्तर्राष्ट्रीय मानक के अनुरुप विकसित करने के लिए यह निर्णय लिया है. इससे गया शहर की निर्भरता इलेक्ट्रिक एनर्जी पर नहीं रहेगी. निर्बाध विद्युत आपूर्ति की भी गारंटी होगी.
कहते हैं अधिकारी
गया को सोलर सिटी के रुप में विकसित करने की मंजूरी नगर निगम की बड़ी उपलब्धि है. मास्टर प्लान बनाने के लिए निविदा की प्रक्रिया को अंतिम रुप दिया जा चुका है. गया देश का मॉडल शहर बने यही हमारी कोशिश है.
विजय कुमार, नगर आयुक्त, गया.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*