गया: क्षेत्रीय स्तर पर स्वास्थ्य कार्यों की प्रगति की आयुक्त ने की समीक्षा

गया (पंकज कुमार): आयुक्त मगध प्रमंडल जितेंद्र श्रीवास्तव ने आज अपने सभाकक्ष में क्षेत्रीय स्तर पर स्वास्थ्य कार्यों की प्रगति की समीक्षा की. स्वास्थ्य सेवा की प्रगति के लिए बनाए गए 20 बिंदु के संकेतक पर समीक्षा हुई. जिनमें जननी बाल सुरक्षा योजना की समीक्षा के दौरान उन्होंने निर्देश दिया है कि प्रसव के दौरान ही लाभुकों को शत-प्रतिशत भुगतान ऑन बेड किया जाए. उन्होंने मातृ मृत्यु समीक्षा एवं शिशु मृत्यु समीक्षा शत-प्रतिशत नहीं किए जाने पर सिविल सर्जन गया के प्रति खेद व्यक्त किया.

आयुक्त मगध प्रमंडल जितेंद्र श्रीवास्तव

उन्होंने कहा कि हाई रिस्क प्रेग्नेंसी की सूची सभी पीएचसी पर बननी चाहिए. उन्होंने सिविल सर्जन को वैसी गर्भवती माताओं का प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रवार सूचीबद्ध करने का निर्देश पूर्व में दिया था, जिन्हें जांच में प्रसव के दौरान अत्यधिक खतरे होने की संभावना पाई गई है. लेकिन समीक्षा के दौरान वैसी हाई रिस्क गर्भवती के सूचीबद्ध नहीं होना पाया गया. उन्होंने सिविल सर्जन गया को 15 दिनों के अंदर इस कार्य को पूर्ण करने का निर्देश दिया. समीक्षा के दौरान सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों पर दवा की उपलब्धता संतोषप्रद पाई गई.

आयुक्त मगध प्रमंडल जितेंद्र श्रीवास्तव

इसी बैठक में प्रमंडल स्तर पर स्वास्थ्य सेवा के लिये गठित क्षेत्रीय गुणवत्ता यकीन समिति की भी बैठक की गई. बैठक में दो बिंदुओं पर समीक्षा की गई प्रसव कक्ष और दूसरा ऑपरेशन थिएटर. आयुक्त महोदय ने कहा कि स्वास्थ्य सेवा की गुणवत्ता के लिए निर्धारित जो मापदंड या लक्ष्य निर्धारित किया गया है, उस लक्ष्य का कम से कम 80% प्राप्त किया जाए. अन्यथा इसमें शामिल सभी व्यक्तियों पर जवाबदेही तय की जाएगी. बैठक में क्षेत्रीय निदेशक स्वास्थ्य सेवाएं, सिविल सर्जन गया, जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी गया, जिला परियोजना प्रबंधक गया एवं सभी चिकित्सा पदाधिकारी उपस्थित थे.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*