माओवादियों के मगध बंद को लेकर पुलिस-प्रशासन सतर्क

गया : सोमवार का दिन पुलिस-प्रशासन के लिए चुनौतियों से भरा होगा. एक ओर देश में नोटबंदी के विरोध में कांग्रेस तथा वामदलों द्वारा भारत बंद का आह्वान किया गया है. वहीं दूसरी ओर प्रतिबंधित नक्सली संगठन भारत की कम्युनिस्ट पार्टी (माओवादी) के द्वारा बहुचर्चित सेनारी नरसंहार मामले में 11 लोगों को मृत्युदंड तथा अन्य तीन को उम्रकैद की सजा दिए जाने के विरोध में 28 नवंबर को मगध बंद की घोषणा की गई है.

संगठन के जोनल कमेटी के प्रवक्ता द्वारा इसकी पुष्टि करते हुए यहां तक कहा गया है कि जिन लोगों को फांसी या उम्रकैद की सजा दी गई है, वे निर्दोष हैं तथा उनका इस नरसंहार से कोई लेना-देना नहीं था. माओवादियों द्वारा मगध बंद की घोषणा ने प्रशासन के कान खड़े कर दिए हैं. बंद की घोषणा के मद्देनजर सभी थानों को हाईअलर्ट पर रखा गया है, ताकि कहीं भी माओवादियों द्वारा किसी अप्रिय घटना को अंजाम नहीं दिया जा सके.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*