महिला अधिकार मोर्चा ने की राष्ट्रपति से मांग, दशरथ मांझी को दिया जाए भारत रत्न

लाइव सिटीज, जमुई : शहर के सगुन वाटिका हॉल में महिला अधिकार मोर्चा के तत्वाधान में बाबा दशरथ मांझी का पुण्यतिथि मनाया गया.  इस अवसर पर वीर विद्वान शक्तिमान सम्मेलन मनाया गया. इस अवसर पर बाबा साहब डॉ. भीमराव अंबेडकर, बाबा दशरथ मांझी, भोला मांझी जी को याद किया गया. इस सम्मेलन की अध्यक्षता अमरदीप मांझी ने किया तो वहीं मंच संचालन अरविंद मांझी ने किया. सम्मेलन में मुख्य अतिथि के रूप में पूर्व सांसद ब्रह्मदेव आनंद पासवान ने शिरकत किया. अपने संबोधन में उन्होंने कहा कि जब तक बिहार में दलित, अतिपिछड़ा, मुसलमान मुख्यमंत्री नहीं होगा तब वंचित समाज का विकास नहीं हो सकता है.

वेलेंटाइन डे की जगह मनाया जाए दशरथ मांझी डे

महिला अधिकार मोर्चा की राष्ट्रीय अध्यक्ष अनामिका पासवान ने कहा कि बाबा दशरथ मांझी देश के पहले शख्स हैं जिन्होंने नामुमकिन कार्यों को मुमकिन कर दिखाया. उन्होंने यह भी कहा कि ताजमहल बनवाने में लगभग 23 वर्ष और 20 हजार कारीगर लगे थे लेकिन बाबा दशरथ मांझी ने 22 वर्ष में 9 किलोमीटर दुर्गम रास्ते को शॉर्ट रास्ता बनाया और कई हजार लोगों को सुविधा प्रदान किया. उन्होंने कहा कि उनका काम आज भी प्रेरणा है और किसी से संभव नहीं है . साथ ही उन्होंने राष्ट्रपति से यह मांग किया कि दशरथ मांझी को भारतरत्न दिया जाए और देश में वेलेन्टाइन डे की जगह दशरथ मांझी डे मनाया जाए.

महिला अधिकार मोर्चा की महामंत्री सुजाता सिंह ने कहा कि आज दशरथ मांझी होते तो कोई ऐसा पहाड़ नहीं जिसको उनका डर नहीं रहता. मौके पर राष्ट्रीय दलित मानवाधिकार अभियान के राज्य समन्वयक धर्मदेव पासवान ने कहा कि जितना काम उन्होंने किया उसका आधा भी अगर यह दलित समुदाय कोशिश करता तो शायद बदलाव होता. लेकिन आज मांझी समुदाय के ही लोगों के द्वारा उनका शोषण किया जा रहा है. उन्होंने यह भी कहा कि हमें एकजुट रहकर हर उस व्यक्ति को जबाब देना होगा होगा जो समाज की नेतृत्व करने का दम भरते हैं.

पुण्यतिथि में अशोक पासवान, संजय पासवान, तुलसी देवी, चंदन पासवान, पम्मी कुमारी, संजीव पासवान, सबीहा खातून, रानी देवी, फखरुद्दीन, अजय रविदास, सृष्टि कुमारी, अजय कुमार पासवान, पूर्व लोकसभा प्रत्याशी फोटिक राय, मो. रिजवान खान, सबीहा, नितेश्वर आज़ाद, प्रदेश सचिव बिहारी मांझी, अजय भुईंया, सूर्यवंश समेत सैकड़ों लोगो ने हिस्सा लिया.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*