जानिए, बिहार के एक अनोखे गांव की कहानी, आज तक नहीं दर्ज हुआ है एक भी केस

लाइव सिटीज, कैमुर/भभुआ (ब्रजेश दुबे) : आपने बिहार के कई अनोखे किस्से सुने होंगे. लेकिन आज हम आपको एक ऐसा किस्सा सुना रहे हैं जो कुछ अलग है. जिस बिहार की इन दिनों बढ़ते क्राइम को लेकर सरकार की आलोचना हो रही है उसी बिहार में एक ऐसा गांव है जहां आज तक एक भी मामला थाने तक नहीं पहुंचा है.

आपको बता दें कि भारत की आजादी से लेकर आज तक की तो बात सभी लोग करते हैं. लेकिन बिहार के इस गांव में ना तो आजादी से पहले और ना ही आजादी के बाद भी थाने में कोई मामला दर्ज हुआ है.

 

बिहार का अनोखा गांव

बता दें कि यह गांव बिहार ही नहीं बल्कि भारत का एक ऐसा अनोखा गांव है जहां आज तक पुलिस और प्रशासन के टच से दूर है. गांव के लोग कहते हैं कि  हम सब बहुत सौभाग्यशाली हैं कि गांव में अगर किसी का दरवाजा खुला भी हो तो चोरी नहीं हो सकती.

नहीं हुई है कोई आपराधिक घटना

यहां आज तक कोई भी आपराधिक घटना हुई ही नहीं हैं. आज एक तरफ बिहार में अपराध नियंत्रण करने में सरकार के पसीने छूट रहे हैं, तो दूसरी तरफ भभुआ जिले में एक ऐसा गांव हैं जहां अपराध का नामो निशान तक नहीं है.

जी हां, बिहार के कैमूर के मोहनिया प्रखंड के अमेठ पंचायत का सरैया गांव अनोखा है. आजादी से पहले और आजादी के बाद आज तक इस गांव में FIR तो छोड़ दीजिए कोई सनहा तक दर्ज नहीं हुआ है.

आजादी से अब तक सरैया गांव के नाम पर कोर्ट में कोई केस दर्ज नहीं हुआ है. मोहनिया प्रखंड के अमेठ पंचायत का सरैया गांव न सिर्फ जिले के लिए बल्कि बिहार के साथ-साथ देश के लिए भी मिसाल का कायम करता है.

गांव के बुजुर्गों ने बताया कि 60 तथा 70 साल से अधिक उम्र हो गई गांव में रहते हुए लेकिन आज तक किसी प्रकार का कोई भी केस दर्ज होते नहीं देखा.ग्रामीणों ने बताया कि गांव की यह परंपरा दादा, परदादा के समय से चलती चली आ रही है.

 

आजादी से लेकर अभी तक गांव की आबादी लगभग 700 से 800 तक है और गांव में लगभग 75 परिवार रहते हैं. गांव ग्वाल वंश यादव के नाम से प्रसिद्ध है. इस गांव में आज तक न तो चोरी हुई है न ही कोई अपराधिक घटना. गांव के लोगों में गजब की एकजुटता है.

अगर आपस में कोई छोटा-मोटा विवाद होता भी है तो ग्रामीण आपस में पंचायत कर सुलझा लेते हैं और कोर्ट, कचहरी, थाने तक मामला पहुंचता ही नहीं है.

 

कैमूर के डीएम डॉ. नवल किशोर चौधरी ने बताया कि इस गांव के नाम थाने में एक भी केस दर्ज नहीं है. उन्होंने कहा कि मैं खुद इस गांव में जाकर उस गांव के लोगों का हर तरह के सरकारी सुविधाओं को लाभ जन-जन तक पहुंचाऊंगा उन्होंने कहा कि यह मेरा लक्ष्य नहीं बल्कि उद्देश्य भी है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*