TeachersDaySpecial : शिक्षक दिवस पर आईपीएस सुकीर्ति माधव ने अपने टीचर अंसारी सर को किया याद

लाइव सिटीज, जमुई/राजेश कुमार : शिक्षक की एक छोटी सी सलाह ने मन मस्तिष्क पर ऐसा प्रभाव छोड़ा जिसने उस बच्चे की जिन्दगी ही बदल दी. विद्यालय के शिक्षक ने उससे कहा था कि डर कर भागना तुम्हें बुजदिल बना देगा. समस्याओं से भागते भागते जब थक जाओगे तब तुम्हें एहसास होगा कि हमें लड़ना चाहिए था. शिक्षक ने यह भी कहा था कि जिस चीज से डर लगे उससे लड़ना चाहिए, जूझना चाहिए.

शिक्षक द्वारा दिया गया यह मंत्र उस बाल मन में घर कर गया और तब शुरू हुई उसकी पढ़ाई के साथ एक ऐसी लड़ाई जिसने उसे सफलता का सिकंदर बना दिया. आपको बता दें कि तब का वह छात्र आज  उत्तरप्रदेश के सबसे तेज तर्रार आइपीएस अफसरों में से एक है और मौजूदा वक्त में वही छात्र लखनऊ के सिटी एसपी के पद पर काबिज है.

साईकिल से स्कूल आते थे अंसारी सर

हम बात कर रहे हैं जमुई के मलयपुर निवासी सेवानिवृत्त शिक्षक कृष्णकांत मिश्रा के पुत्र आईपीएस सुकीर्ति माधव की. आज शिक्षक दिवस है और इस अवसर पर एसपी सुकीर्ति माधव ने जमुई में  उनके शिक्षक रहे अंसारी सर को याद किया है. अपने शिक्षक को याद करते हुए उन्होंने कहा कि प्राथमिक विद्यालय मलयपुर में अंसारी सर थे. साईकिल से विद्यालय आते जाते थे, और बहुत ही विनम्र थे.

उन्हें याद करते हुए आईपीएस सुकीर्ति माधव ने कहा कि अंसारी सर मैथ्स की क्लास लेते थे और मैं मैथ्स से बचता रहता था. उन्होंने एक दिन मुझे अकेले में बुलाया और समझाया कि मैथ्स की क्लास में तुम्हारा मन क्यों नही लगता, मुझे बताओ. उन्होंने कहा था जिस चीज़ से डर लगे उससे लड़ना चाहिए, जूझना चाहिए. तुम मुझसे क्लास के बाद मिल कर भी पढ़ाई करना.

उनकी प्रेरणा से मैं परेशानियों से जूझना सीख गया

आईपीएस सुकीर्ति माधव ने बताया कि उनके सकारात्मक और अभिभावक स्वरूप समझाने का तरीका मुझे काफी अच्छा लगा. उस दिन से मैंने हर उस चीज़, जिस से मुझे परेशानी हो उसको फेस करना शुरू कर दिया और उस से जूझना शुरू कर दिया. अंसारी सर के उस ज्ञान ने न सिर्फ पढ़ाई बल्कि मेरे जीवन मे भी काफी प्रेरणा प्रदान किया है. एसपी माधव ने शिक्षक दिवस पर कहा कि मैं अपने सारे शिक्षकों का अभिवादन करता हूं जिन्होंने मुझे इस मुकाम तक पहुंचाया और एक अच्छा इंसान बनने को प्रेरित किया.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*