जमुई: डॉ. मनीषा ने काशी हिंदू विवि के ओल्ड मेडिकल हॉस्टल कर ली खुदकशी, परिवार में छाया मातम

डाक्टर मनीषा की फाइल फोओ

लाइव सिटीज, जमुई(राजेश कुमार) : बड़ी खबर आ रही है बनारस से जहां जमुई की डाक्टर मनीषा ने काशी हिंदू विश्वविद्यालय के ओल्ड मेडिकल हॉस्टल के रूम नंबर 41 में खुदकशी कर ली है. रविवार की सुबह पंखे से टंगा उसका शव मिला है जिसके बाद जमुई में रह रहे उसके परिजनों को इसकी खबर दी गई. मनीषा के पिता व चाचा रविवार को ही बनारस के लिए प्रस्थान कर चुके हैं पर खबर है कि रविवार को परिजनों को उसका शव नहीं सौंपा गया.

जानकारी मिल रही है कि खुदकशी से पूर्व डा मनीषा ने चार पन्ने का एक सुसाइड नोट भी लिखा है जिसमें उसने खुद के डिप्रेशन में चले जाने की बात कहते हुए मौत के लिए किसी दुसरे को जिम्मेवार नहीं ठहराया है. जबकि मनीषा को नजदीक से जानने वाले उसके मित्रों व परिजनों को यह बात नहीं हजम हो रही कि मजबूत इच्छाशक्ति की धनी डा मनीषा खुदकशी जैसा कायराना कदम भी उठा सकती है. मनीषा की मौत की खबर से जमुई के लोग स्तब्ध हैं और उसकी मौत की जांच कराने की बात कह रहे हैं.

जमुई स्थित मुख्य बाजार महाराजगंज निवासी व्यवसायी अनिल केसरी के दो बच्चों में बड़ी बेटी मनीषा पढाई में बचपन से ही होनहार थी. उसने 2008 में जमुई से मैट्रिक पास किया था और 2010 में जमुई से ही  इंटर की परीक्षा भी पास की थी. 2011 में वह मेडिकल की तैयारी के लिए कोटा चली गई. 2012- 13 के सत्र में उसने मेडिकल में प्रवेश पाया. बनारस में रहकर उसने मेडिकल की पढ़ाई पूरी की और अब एमडी का तृतीय वर्ष पूरा कर रही थी जिसमें दो महीने शेष थे.

घटना के बावत मिली जानकारी के मुताबिक रविवार की सुबह मनीषा ने हॉस्टल के चौकीदार को 500 रुपए उपहार स्वरूप दिए थे इसके बाद वह अपने कमरे में बंद हो गई थी. सुबह 11:00 बजे तक जब वह नाश्ता करने मेस नहीं पहुंची तो साथी छात्राओं ने जाकर उसका दरवाजा खटखटाया. अंदर से कोई जवाब नहीं मिलने पर दरवाजे को धक्का देकर खोला गया तो सामने रस्सी के सहारे पंखे से मनीषा को लटकते देख वहां चीख-पुकार मच गई.

बताया जा रहा है कि पास में ही एक सुसाइड नोट भी रखा था. जानकारी मिल रही है कि सुसाइड नोट में क्षय रोग से पीड़ित होने के कारण तनाव की बात लिखी गई है. सूत्रों से मिल रही जानकारी के मुताबिक शुक्रवार को ओपीडी में मनीषा ने मरीजों का इलाज किया और शाम को हॉस्पिटल में मित्रों के साथ खाना भी खाया. शनिवार को उसने छुट्टी ले रखी थी और पूरे दिन कमरा में ही रही. घटना के बाद रविवार को  जमुई में रह रहे उसके माता- पिता को बनारस से फोन कर बताया गया कि मनीषा की तबीयत ज्यादा खराब है और वह आईसीयू में भर्ती है.

वहां पहुंचने के बाद उसके पिता अनिल केसरी को बताया गया कि उनकी बेटी ने खुद्खुशी कर ली है. खबर के बाद परिजनों को विश्वास नहीं हो रहा कि मनीषा ने आत्महत्या की होगी. बताया जा रहा है कि 10 जून को मनीषा का जन्मदिन था जिसे उसने सेलिब्रेट किया था. 11 जून को पटना में उसके ममेरे भाई की शादी थी जिसमें उसने शिरकत भी की थी और 14 जून को वह अपने ममेरे भाई के संग्रामपुर स्थित घर पर उसके रिसेप्शन में भी शामिल हुई थी और बिल्कुल सामान्य थी.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*