लालू यादव से मिलने रांची रिम्स पहुंचे सुनील सिंह, आरजेडी एमएलसी बनने के बाद लिया आशीर्वाद

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव से रांची के रिम्स में आज परसा विधायक छोटेलाल राय और राजद के नवनिर्वाचित एमएलसी और बिस्कोमान के चेयरमैन सुनील सिंह ने मुलाकात की है. सुनील सिंह नवनिर्वाचित होने के बाद पहली बार लालू यादव से मुलाक़ात करने गए थे. साथ ही परसा के विधायक ने भी उनके मुलाकात की है.

इस मुलाक़ात के बाद माना यह जा रहा है कि लालू यादव को शुभकामना दी गयी है. इस मुलाक़ात के बारे में सुनील सिंह ने लालू यादव की सेहत को लेकर चिंतित नज़र आए. उन्होंने कहा कि किसी को लीवर का प्रॉब्लम है, किसी को ब्लड सुगर है, वह दिखाई थोड़ी देता है. इसकी जानकारी टेस्ट में पता चलता है. उन्होंने आगे कहा कि लालू यादव ने ‘मुझे गरीब किसानों, सभी सहकार जनों की आवाज को बुलंदी के साथ सदन में रखने के लिए मुझे एमएलसी मनोनीत किया है. इसके लिए उन्होंने आरजेडी, लालू यादव और तेजस्वी यादव का आभार प्रकट किया.



वहीं, चुनाव को लेकर उन्होंने कहा कि इसको लेकर कोई बातचीत नहीं हुई है. उन्होंने कहा कि लालू यादव को गरीबों की चिंता है. किसानों को सही उत्पाद का मूल्य मिले. किसानों के साथ कोई अन्याय नहीं हो, इसी की लड़ाई लड़ने के लिए लालू यादव ने सदन में भेजा है.

रघुवंश प्रसाद और पांच एमएलसी के पार्टी को छोड़ देने की बात पर सुनील सिंह ने कहा कि लालू प्रसाद का दूसरा नाम पोलिटिकल यूनिवर्सिटी भी है. हज़ारों लोगों ने उनसे एजुकेशन पाकर, राजनीति की शिक्षा पायी होगी. रघुवंश बाबु ने पार्टी छोड़ा नहीं है, नाराजगी किसी को किसी से भी हो सकती है.

इस बीच सुनील सिंह ने जेडीयू के बारे में कहा कि बिहार में रूलिंग पार्टी जेडीयू में 90 प्रतिशत लोग राजद के ही छोड़े हुए लोग हैं. राजद को छोड़कर, और आरजेडी से ट्रेनिंग लेकर गए हुए लोग हैं. जो आज मंत्री पद पर सभी सी पार्टी को छोड़कर गए हुए लोग हैं. पांच एमएलसी जो छोड़कर गए हैं, उसमें से कितने ऐसे एमएलसी हैं जो राजद को छोड़कर गए हैं. इसी बात से उनकी पॉपुलैरिटी का पता चलता है. सभी लोग स्वार्थ के लिए इस क्षेत्र में आते हैं.

रांची रिम्स में किसी रिलेटिव से मिलने आए थे सुनील सिंह, उसी दौरान लालू यादव से मुलाक़ात हो गयी. वहीं, परसा विधायक ने अपने क्षेत्र के बारे में लालू यादव से बातचीत की. सूत्र बता रहे हैं कि विधानसभा को लेकर भी रणनीति तय हुई है. किस तरह से पार्टी को मजबूती दी जाये, इसपर भी बातचीत हुई है.