हेमंत सोरेन ने साहिबगंज के शहीद जवान को दी श्रद्धांजलि, कहा- ईश्वर परिवार को दुःख सहने की शक्ति दें

रांची : लद्दाख की गलवान घाटी में चीनी सैनिकों के साथ हिंसक झड़प में सेना के 1 अधिकारी सहित सहित 20 जवानों में से झारखंड के साहिबगंज जिला के डिहारी गांव के रहने वाले कुंदन कांत ओझा की शहादत को नमन करते हुए शहीद जवान को श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि इस कोरोना काल में भी हमारे जवान ने देश के लिए अपना जीवन बलिदान कर दिया. ईश्वर शहीद परिवार को दुःख सहने की शक्ति प्रदान करे.

प्रदेश सरकार शहीद के परिवार के साथ इस दुःख की घड़ी में खड़ी है. वहीं प्रधानमंत्री के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में मुख्यमंत्री अपनी बात नहीं रख पाए. मुख्यमंत्री ने बताया कि यह पीएमओ से ही डिसाइड होता है कि कौन अपनी बातें रखेंगे और किस से प्रधानमंत्री की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में बातचीत होगी. उनकी बारी बोलने की नहीं थी.



प्रधानमंत्री ने राज्यों को लिखित में अपनी बात रखने का सुझाव दिया है, जिसके बाद अब लिखित में झारखंड की आवाज पीएम तक पहुंचाएंगे. वहीं केंद्र से सामंजस्य के मुद्दे पर पूछे गए सवाल पर कहा कि केंद्र एडवाइजरी जारी करता है. जिसका पालन राज्यों को करना होता है, केंद्र स्वास्थ्य क्षेत्र में केंद्र उपकरण आर्थिक सहयोग बेरोजगारों को डीपीटी में से पैसे और गरीबों को अनाज उपलब्ध कराता है. राज्य में कपड़े जूते और सैलून की दुकान है, आदि खोलने पर कोई फैसला नहीं हो सका.

उम्मीद जताई जा रही है कि बुधवार को इस पर कोई निर्णय लिया जा सकता है. वहीं दुमका से मजदूरों को बीआरओ द्वारा ले जाए जाने की अनुमति नहीं देने के सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि सीमा पर तनाव को देखते हुए मजदूरों को ले जाने की अनुमति बीआरओ को नहीं दी गयी.