महाराष्ट्र में ट्रेन में फंसे 1500 प्रवासी मजदूरों को लेकर हेमंत सोरेन चिंतित, अनहोनी की जताई आशंका

रांची: झारखंड में लगातार ट्रेनों का आवागमन जारी है. 90 के लगभग आ चुकी है और 90 आने वाली थी. केंद्र ने ट्रेनों को लेकर जो नई एडवाइजरी जारी की है उसके अनुसार ट्रेनों के आवागमन केंद्र या कहे की रेलवे ही निर्णय करेगा की कहां से कितनी ट्रेन चलेगी, ये निर्णय करेगी.

केंद्र सरकार की नई एडवाइजरी से महाराष्ट्र से 1500 प्रवासी मजदूरों को लेकर चली ट्रेन महाराष्ट्र के ही किसी स्टेशन में पिछले 8 -10 घंटों से फंसी पड़ी है. किसी अनहोनी की आशंका है क्योंकि इनके पास किसी प्रकार की मदद नहीं पहुंच पा रही है. ना तो इनके पास खाने की और ना ही पीने की व्यवस्था है.

सरकार को अपने इन प्रवासी भाइयों की चिंता हो रही है. राज्य सरकार लगातार केंद्र के अधिकारियों के संपर्क में हैं. प्रवासियों के आने से संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़ने से लोगों में असुरक्षा की भावना पैदा हो गयी है. सरकार सारी स्थिति पर नजर बनाए हुए है.

इधर नई एडवाइजरी पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि नई एडवाइजरी ठीक प्रतीत नहीं हो रहा है. सरकार इसका अध्ययन कर रही है और जरूरत पड़ी तो कल इसपर केंद्र सरकार से बात कर इसके लिए कोई अलग रास्ता राज्य सरकार के लिए तय करे इसका सरकार आग्रह करेगी.