लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : मकर संक्रांति पर लालू यादव के चूड़ा-दही भोज की चर्चा न हो ऐसे हो नहीं सकता. लालू यादव के बिहार में मौजूद नहीं रहने से विपक्ष का चूड़ा-दही भोज जरुर फीका पड़ गया है. कुछ भी हो लेकिन लालू यादव इस दिन चूड़ा-दही का भोज करने नहीं भूलते चाहे कितनी भी पाबंदी क्यों न लगी हो. इस बार लालू यादव मकर संक्रांति का त्योहार रांची स्थित राजेंद्र आयुर्विज्ञान संस्थान (रिम्स) के पेइंग वार्ड में ही मना रहे है.

आपको बता दें कि लालू यादव रिम्स के पेइंग वार्ड में मकर संक्रांति का पर्व मना रहे हैं. मकर संक्रांति के मौके पर बिहार से लालू के कई समर्थक चूड़ा, दही, तिलकुट व लाई आदि के साथ ताजी हरी सब्जियां लेकर पहुंचे हैं.

रिम्स में इलाज करा रहे लालू प्रसाद के स्वास्थ्य को देखते हुए उनके खाने-पीने पर काफी पाबंदी लगाई गई है. वे शुगर के मरीज हैं और उन्हें रोजाना 80 से 82 यूनिट इंसुलिन दी जा रही है. रिम्स अधीक्षक डॉ. विवेक कश्यप ने बताया कि उनकी तमाम बीमारियों को मॉनीटर करते हुए उन्हें सीमित मात्रा में तिलकुट और मिठाई खाने की छूट दी गई है. अगर इसकी मात्रा थोड़ी भी ज्यादा हुई, तो उनकी सेहत के लिए नुकसानदेह होगा.

बता दें कि मंगलवार को पेइंग वार्ड के बाहर राजद के प्रदेश अध्यक्ष अभय सिंह ने जरूरतमंदों के बीच दही, चूड़ा, तिलकुट आदि बांटे. अभय सिंह ने कहा कि लालू प्रसाद हर साल इस त्योहार को धूमधाम से मनाते आए हैं. लेकिन दो साल से इस त्योहार को परिवार के साथ नहीं मना पा रहे हैं, पेइंग वार्ड के बाहर पूरे दिन राजद नेताओं का जमावड़ा लगा रहा है.