बाहर आने से पहले एक बार फिर बढ़ी लालू यादव की मुश्किलें, दूसरी जगह होंगे शिफ्ट

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: बिहार विधानसभा चुनाव में एनडीए की सरकार बनने के बाद बिहार को भी नीतीश कुमार के रूप में मुख्यमंत्री मिल गया है. इस बीच विरोधियों पर दुखों का पहाड़ टूट गया है. भले ही लालू फैमिली के दोनों लाल ने राघोपुर और हसनपुर से चुनाव जीत लिया हो लेकिन इस जीत का क्या फायदा. जितने कयास लगाये जा रहे थे सब पर विराम लगाते हुए सातवीं बार नीतीश कुमार बिहार के मुख्यमंत्री बन चुके हैं.

इधर विपक्ष के ऊपर की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही है. इसी कड़ी में रांची में चारा घोटाले में सजायाफ्ता लालू प्रसाद यादव की परेशानी एक बार फिर बढ़ गयी है. लालू को रिहा होने में अब कुछ ही दिन बाकी है, ऐसे में राजद सुप्रीमो को रिम्स निदेशक के बंगले से दूसरी जगह शिफ्ट करने की तैयारी की जा रही है. यह खबर लालू और उनके समर्थकों को परेशान करने वाली साबित हो सकती है.



दरअसल, बिहार चुनाव के कारण इस बात पर किसी की भी नज़र नहीं गयी कि रिम्स निदेशक के बंगले में लालू यादव लंबे समय से रह रहे हैं. लेकिन अब जो खबरें निकलकर सामने आ रही हैं उसके अनुसार अब लालू यादव को यादव से दुबारा शिफ्ट किया जा रहा है.

दरअसल रिम्स के नए निदेशक पद्मश्री डा. कामेश्वर प्रसाद को गेस्ट हाउस में रखा गया है. जबकि रिम्स निदेशक के बंगले में लालू यादव रह रहे हैं. यह मुद्दा एक बार फिर से गरमा गया है. रिम्स के इतिहास में यह पहली बार है जब स्थाई निदेशक का पदभार लेने के बावजूद भी उन्हें डिरेक्टर के बंगले में रहने को नहीं मिल रहा है.

इस बारे में कामेश्वर प्रसाद ने कहा कि नियुक्ति के बाद उन्होंने विभाग से ज्वाइनिंग के लिए दो महीने का समय लिया था लेकिन नई दिल्ली स्थित ऑल इंडिया मेडिकल साइंसेज (एम्स) से जल्द रिलीव हो जाने के बाद वे अचानक रांची पहुंच गए. इसलिए रिम्स में उनके आगमन से संबंधित तैयारियां नही हो सकी.