बोले तेजस्वी- बिहार में लोग मर रहे हैं, नीतीश कुमार और बीजेपी को बिहार चुनाव दिख रहा है

रांची : बिहार लौटने से पहले तेजस्वी यादव ने संवाददाता सम्मेलन के माध्यम से एक बार फिर नीतीश कुमार पर निशाना साधा है. उन्होंने कहा कि 2015 में लालू जी भ्रष्टाचारी नहीं थे, इसलिए नीतीश कुमार उनके पैरों पर गिर के समर्थन लेने गए थे. नीतीश कुमार घटिया राजनीति कर रहे हैं. सरकार उनकी है. 15 साल के बाद आपको याद आ रहा है, 2015 में आप कहां थे. 2015 में उनको बताना था कि लालू जी के साथ क्यों थे या फिर बीजेपी को आपने क्यों छोड़ा था. उसपर तो नहीं बोलते हैं.

तेजस्वी ने नीतीश कुमार से पूछा सवाल :
नीतीश जी बाहर कब निकलेंगे, इसका जवाब दें नीतीश कुमार. बिहार के मुख्यमंत्री है बाहर नहीं निकल रहे हैं. झारखंड के मुख्यमंत्री रोज बाहर निकल कर काम रहे हैं. बिहार में जब सबसे ज्यादा किसानों, गरीबों, मजदूरों को नीतीश की जरूरत थी तो वह बिल में छुपे हुए थे.



वहीं बिहार चुनाव पर तेजस्वी ने कहा कि लोकसभा का पैटर्न अलग होता है. विधानसभा का पैटर्न अलग होता है. लोकसभा के बाद बाय इलेक्शन हुए थे. बिहार में उपचुनाव में आरजेडी लगभग सभी सीटों पर चुनाव जीती थी. उस समय भी गठबंधन थी. हमारे साथ जो थे, हमें और कांग्रेस को छोड़ दें. मांझी जी कुशवाहा जी सब अलग-अलग चुनाव लड़े. नतीजा सबके सामने हैं. ग्राउंड रियलिटी है, उसे सब को जानना होगा

हमारा प्रयास है कि सभी साथ में रहे राज्य की स्थिति भयावह होने वाली है. राज्य में उसकी चिंता किसी को नहीं है. रोज लोगों की मौत हो रही है. रोजगार कैसे दिलाएंगे, इसकी चिंता नहीं है जो सत्ता में बैठे हैं, वह अपना सोच रहे हैं. गरीबों का कौन सोचेगा कई पार्टी मौतों पर भी जश्न मना रही है? जनता दल यूनाइटेड, बीजेपी के लोग चुनाव की तैयारी में लगे हैं. यह काम इलेक्शन कमिशन का है, इन्हें इलेक्शन कमीशन से पहले पता है कि कब बिहार में चुनाव हो रहे हैं. सरकार को स्पष्ट करना चाहिए कि बिहार में स्थिति स्पष्ट करनी होगी.

महामारी से निपटने के लिए आपने क्या किया. लोग सुरक्षित नहीं रहेंगे और ये चुनाव चुनाव करा रहे हैं. जनता को सुरक्षित करने के लिए क्या किया है, यह बताएं बिहार सरकार. फिजिकल डिस्टेंसिंग का कोई पालन नहीं हो रहा है. बिहार में सबको हमको ट्रेन में भेज दिया जा रहा है. मजदूरों को आर्थिक मदद नहीं मिल रही है. रोजगार की कोई व्यवस्था नहीं है, चुनाव होते रहेगा लेकिन जिनका जान बचा सकते हैं उसे तो बचाएं हम.