जागरूकता फैलाने निकल पड़ा कालाजार उन्मूलन रथ

खगड़िया : जिले में कालाजार उन्मूलन अभियान के तहत चलाये जानकारी रहे कार्यक्रम के प्रचार-प्रसार के लिए प्रचार रथ को सदर अस्पताल से शनिवार को रवाना किया गया.

रथ चिन्हित प्रखंडों के पंचायतों में भ्रमण कर कालाजार के रोकथाम के लिए चलाए जा रहे दवा छिड़काव अभियान में सहयोग के लिए लोगों को जागरूक करेगा. न्यू कंसेप्ट इंफॉर्मेशन सिस्टम के द्वारा लाये गये इस प्रचार रथ को सदर अस्पताल से सिविल सर्जन डॉक्टर अरुण कुमार सिंह, डीएस डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद एवं कालाजार उन्मूलन प्रभारी डॉक्टर  विजय कुमार ने हरी झंडी दिखाकर अलौली प्रखंड के लिए रवाना किया. यह प्रचार रथ 28 अप्रैल तक चिन्हित स्थानों पर भ्रमण कर लोगों को जागरूक करेगी . ताकि दवा छिड़काव कार्यक्रम को शत-प्रतिशत बना कर जिले को कालाजार मुक्त जिला बनाने की राह प्रशस्त हो सके. इस अवसर पर अस्पताल प्रबंधक शशिकांत कुमार, प्रचार रथ के नोडल पर्सन उमेश चौबे, कलस्टर मैनेजर प्रमोद जायसवाल, सहयोगी सूरज शर्मा, मोहम्मद सेराज आदि मौजूद थें. मौके पर सिविल सर्जन ने बताया कि कालाजार के रोकथाम के लिए बालू मक्खी पर नियंत्रण आवश्यक है. इसलिए सरकार द्वारा कीटनाशक का छिड़काव वर्ष में दो बार फरवरी-मार्च और जून-जुलाई में करवाया जाता है.

यह छिड़काव घरों के भीतरी दीवारों, मवेशी रहने के घरों (बथान) में कराया जाना है.साथ ही उन्होंने बताया कि जमीन से 6 फुट ऊपर की ऊंचाई तक दवा का छिड़काव आवश्यक है. साथ ही घरों एवं मवेशी के घरों की साफ-सफाई भी जरूरी है.वहीं उन्होंने  छिड़काव करने के समय कमरे को खाली कर लेने की बातें भी कहते हुए खाद्य सामग्री को ढक कर रखने की सलाह दी.साथ ही  छिड़काव के बाद 10 सप्ताह तक दीवारों का रंगाई-पुताई नहीं कराने का भी उल्लेख किया गया.ताकि दवा का असर जल्द समाप्त नहीं  सके. उन्होंने कहा कि यदि उपचार के बावजूद दो हफ्ते से ज्यादा दिनों का बुखार ठीक नहीं हो हो तो कालाजार की जांच करा लेना जरूरी है.मौके पर इस बीमारी  के लक्षण के बारे में उन्होंने बताते हुए कहा कि 2 हफ्ते से ज्यादा बुखार रहना, तिल्ली और जिगर का बढ़ना, खून की कमी व कमजोरी होना एवं वजन में कमी होना कालाजार रोग का मुख्य लक्षण है. इन लक्षणों के सामने आते ही शीघ्र नजदीक के स्वास्थ्य केंद्र पर जाकर  चिकित्सक से परामर्श कर जांच जरूर करना चाहिए.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*