नहीं रहे वयोवृद्ध शिक्षक योगेश्वर बाबू, दी गई अंतिम विदाई

खगड़िया : एक लंबे अरसे तक प्राथमिक शिक्षक संघ के जिला इकाई के प्रधान महासचिव पद पर रहे शिक्षक योगेश्वर प्रसाद यादव का आकास्मिक निधन सोमवार को हो गया. उनके निधन पर शिक्षक संघ के जिला अध्यक्ष मनोज कुमार ने इसे संघ के लिए एक अपूर्णीय क्षति बताते हुए कहा कि लंबे अरसे तक वो संघ के माध्यम से शिक्षकों की विभिन्न समस्याओं के निदान के लिए संघर्ष करते रहे थे. वयोवृद्ध होने के बावजूद भी वो संघ एवं शिक्षकों के हित के लिए हमेशा नेक सलाह दिया करते थे. शिक्षकों के बीच उपजे वाद-विवाद या भेदभाव को बातों ही बातों में सुलझा देना उनके लिए काफी सहज काम था.

उल्लेखनीय है कि 79 वर्षीय स्वर्गीय योगेश्वर प्रसाद यादव चौथम प्रखंड के रोहियार सोनबरसा निवासी थे. वे अपने पीछे 2 पुत्र एवं एक पुत्री से भरा पूरा परिवार छोड़ कर गए है. मंगलवार को उनका दाह संस्कार मुंगेर घाट गंगा नदी के तट पर हिंदू रीति-रिवाज के मुताबिक किया गया. मौके पर ग्रामीणों सहित कई शिक्षक भी उपस्थित थे. इसके पूर्व गृह रक्षा वाहिनी कार्यालय स्थित उनके छोटे पुत्र के आवास पर पार्थिव शरीर के अंतिम दर्शन को लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी.

जिनमें राकेश कुमार, विद्यानंद सिंह, राजकिशोर यादव, रुस्तम अली, मनोरंजन प्रसाद, वकील ठाकुर, प्रभाकर ठाकुर, प्रद्युम्न कुमार प्रसून, बृजेंद्र नारायण यादव, सूर्य कुमार पासवान, कृष्ण कुमार यादव, डॉक्टर अवधेश कुमार यादव, चंद्रदेव प्रसाद यादव, सीताराम चौधरी, विष्णु देव प्रसाद यादव, अरविंद प्रसाद हिमांशु, विनोद कुमार सहित दर्जनों शिक्षकों ने उनके शव पर पुष्प व माला अर्पित कर उन्हें अंतिम विदाई दी.