शिविर में स्कूली छात्राओं को किया गया जागरूक

खगड़िया : बिहार राज्य विधिक सेवा प्राधिकार पटना के पत्रांक 710 के दिशानिर्देश में जिला विधिक सेवा प्राधिकार के तत्वाधान में शहर के आर्य कन्या उच्च विद्यालय में तस्करी एवं वाणिज्यिक योन शोषण के पीड़ितों के लिए विधिक सेवा योजना के तहत जागरूकता शिविर का आयोजन किया गया. शिविर में उपस्थित छात्राओं को कानून सम्मत जानकारी दी गई.

इस अवसर पर पैनल अधिवक्ता संजय कुमार एवं पैरा लीगल वालंटियर दीपक कुमार ने समाज में जागरूकता फैलाने उद्देश्य से हाई स्कूल की छात्राओं को देह व्यापार से जुड़े लोगों पर होने वाली कानूनी कार्रवाई के बारे में विस्तार से बताया. वहीं समाज की मुख्यधारा से अलग होकर गैर कानूनी कार्यों में जुड़े लोगों को समाज के मुख्य धारा में जोड़ने के लिए सरकार द्वारा दिए जाने वाले सहायता के बारे में भी जानकारी दी गई.

मौके पर विद्यालय के प्रधानाचार्य नंदलाल प्रसाद साहू, बीआरपी मोहम्मद अयूब, सहायक शिक्षक साकेत कुमार गुप्ता, विजय कुमार आजाद, निलेश रंजन, हरिमोहन आदि उपस्थित थे.जिन्होंने कार्यक्रम को सफल बनाने में अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया.साथ ही शिविर दी गई जानकारी को समाज में फैलाने के लिए भी छात्रों को प्रेरित किया. मौके पर प्रधानाध्यापक श्री साहू ने छात्राओं से कहा कि युवा पीढ़ी समाज का महत्वपूर्ण अंग होता है. खासकर युवतियों को सचेत रहने की जरूरत है. हमारे बीच के ही कुछ लोग इस तरह के कार्य को अंजाम देते हैं, जिससे ना सिर्फ कानून की अवहेलना होती है बल्कि साथ ही भोली-भाली युवतियां भी ठगी जाती है.

वहीं युवतियों को खासतौर पर सचेत रहने पर बल देते हुए कहा गया कि यदि कोई किसी भी प्रकार का कोई प्रलोभन देता है तो तुरंत उसका विरोध करें.साथ ही अपने अभिभावकों से मैत्री संबंध रखें और उनसे हर छोटी-छोटी बातों को भी शेयर करें. विद्यालय में शिक्षक एवं शिक्षिकाएं आपके अभिभावक होते हैं. अपनी समस्याओं को बताने में उनसे न कतराएं. अपने अभिभावक एवं शिक्षक-शिक्षिकाओं से अपनी हर प्रकार की समस्याएं को शेयर करें. इससे निश्चित रूप से लाभ मिलेगा. वहीं समाज के गलत लोगों के मंसूबों पर पानी फिरेगा. मौके पर विधिक जागरुकता कर्मी राजीव कुमार, विद्यालय के लिपिक सुधांशु कुमार एवं प्रेमलता कुमारी समेत दर्जनों छात्राएं मौजूद थीं.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*