खगड़िया : मजदूरों की एकता पर बल देते हुए CPM नेताओं ने किया झंडोत्तोलन

खगडिया (मुकेश कुमार मिश्र) : जिले के परबत्ता में सी.पी.एम. के द्वारा मई दिवस के अवसर पर एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया. मौके पर सी.पी.एम. नेता हरेराम चौधरी के झंडोतोलन किया गया और पार्टी ध्वज को सलामी दी गई. इस अवसर पर उपस्थित पार्टी के अंचल मंत्री सुनील कुमार मंडल, रामप्रवेश, सत्यनारायण यादव, जमादार शर्मा, अविनाश मंडल, गणेश पंडित, प्रमोद मंटून आदि ने अपने-अपने संबोधन में देश की मजदूरों की वर्तमान हालत पर विस्तार से चर्चा करते हुए मजदूरों की एकता पर बल दिया. साथ ही “दुनिया के मजदूर एक हो” का नारा बुलंद किया.

वक्ताओं ने कहा कि अन्तर्राष्ट्रीय मजदूर दिवस की शुरुआत एक मई 1886 को अमेरिका में एक आंदोलन से हुई थी. जिसमें मजदूरों के काम की अवधि 8 घंटे का निर्धारित किए जाने का शंखनाद किया गया था. इसी के उपरांत भारत सहित दुनिया के अन्य देशों में काम के लिए 8 घंटे का वक्त निर्धारित किए जाने की नींव पड़ी. वहीं बताया गया कि मई दिवस दुनिया के मजदूरों को समर्पित है और यह दुनिया में मजदूरों के अनुकूल माहौल बनाए जाने के लिए प्रेरित करता है. ‘8 घंटे काम’ जैसे आंदोलन से पहले दुनिया के मजदूरों का शोषण हो रहा था.

श्रमिकों की मौत और घायल होने की घटनाएं जैसे बेहद आम हो चली थीं. भारत में पहली बार मई दिवस एक मई 1923 को चेन्नई में मनाया गया था. उसके बाद अंग्रेजों के शासक ने भी ट्रेड मजदूर यूनियन बनाने की सहमती प्रदान कर दी. इस दिन का चुनाव राष्ट्र निर्माण में लगे पुरुषों और महिलाओं को सम्मानित करने के लिए किया गया था. बाद में विभिन्न मजदूर संगठनों के द्वारा ‘मई दिवस’ के दिन मजदूरों के अधिकारों की आवाज बुलंद करने की परंपरा बन गई.

खगड़िया में दो बच्चों के पिता पर बच्ची से रेप का आरोप, मामला दर्ज

मौके पर कहा गया कि संयुक्त राष्ट्र के अंतर्गत आने वाली अंतर्राष्ट्रीय मजदूर संस्था दुनियाभर में लेवर क्लास के लोगों के जीवन स्तर सुधारने की दिशा में काम करती है. आज के दिन मजदूर संस्था दुनिया के अलग-अलग हिस्सों में रैली और मार्च निकालने का काम करती है. ताकि मजदूर उत्पीड़न, न्यूनतम मजदूरी कानून और अप्रवासी मजदूरों को लेकर जागरुकता फैलाई जा सके.