थाना आने वाले लोगों के साथ अच्छा व्यवहार करे पुलिस : एसपी

खगड़िया : पुलिस अधीक्षक कार्यालय में शनिवार को पुलिस कप्तान मीनू कुमारी की अध्यक्षता में अपराध गोष्ठी एवं पुलिस सभा का आयोजन किया गया जिसमें जिले के सभी पुलिस उपाधीक्षक, पुलिस निरीक्षक व थाना अध्यक्ष शामिल हुए. मौके पर पुलिस अधीक्षक ने कहा कि प्रतिदिन उनके कार्यालय में बड़ी संख्या में महिलाएं उनसे मिलने आती हैं जिनमें से अधिकांश का परिवारों के साथ विवाद रहता है. इसके मद्देनजर उन्होंने बताया कि खगड़िया महिला हेल्पलाइन के संयोजक, महिला थाना के अध्यक्ष तथा एक एनजीओ के साथ काउंसलिंग कमेटी गठित की गई है जो महिला परिवादियों की समस्याओं को सुनकर दूसरे पक्ष को बुलाकर समझौता कराने का प्रयास करेगी. प्रयास सफल नहीं होने पर विधि-सम्मत कार्रवाई करने की बातें कही गईं.
इस अवसर उन्होंने उपस्थित पुलिस पदाधिकारियों को कहा कि प्रायः यह देखा जा रहा है कि आप काम भी करते हैं तथा आम जनता आप से नाराज होकर मेरे पास चली आती है. ऐसा इसलिए होता है कि आप उनके साथ अच्छा व्यवहार नहीं करते हैं. पुलिस के पास लोग दु:ख में ही आते हैं. दुख के समय मात्र संवेदना व्यक्त करने से ही पीड़ित व्यक्ति उनके कायल हो जाते हैं. आपके काम करने के बाद भी पीड़ित नाराज होकर मेरे पास चले आते हैं तो मैं यह मानती हूं कि आपका व्यवहार उनके प्रति अच्छा नहीं रहा होगा. वहीं उन्होंने पुलिस पदाधिकारियों से थाना में आने वालों के साथ अच्छा व्यवहार करने की बातें कहीं. साथ ही उन्होंने ऐसा नहीं करने वाले पुलिस पदाधिकारियों पर  कार्रवाई करने तक की बात कही.
मौके पर एसपी ने जिले के लंबित कांडों की संख्याओं को गंभीरता से लेते हुए इसके शीघ्र निष्पादन का निर्देश दिया. साथ ही वारंट कुर्की आदि मामलों के तरह इसे भी लक्ष्य बनाकर निष्पादन करने की बातें कही. उन्होंने स्पष्ट रूप से कहा कि अगले माह से जिस थानाध्यक्ष के कांडों का निष्पादन अंकित कांडों के डेढ़ गुणा से ज्यादा नहीं होगा उनके विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी. वहीं महिलाओं व बालिकाओं के अपहरण से संबंधित कांडों में हो रही वृद्धि को भी उन्होंने काफी गंभीरता से लिया है जबकि मोटरसाइकिल चोरी से संबंधित कांडो की समीक्षा के दौरान उन्होंने निर्देश दिया कि ऐसे सभी कांड गंभीर प्रकृति की श्रेणी में रखे जाएं.
उन्होंने गृह भेदन एवं चोरी जैसे कांडों के मामले में घटनास्थल पर पुलिस निरीक्षक तथा डकैती, लूट, हत्या जैसे कांडों के मामले में घटनास्थल पर पुलिस उपाधीक्षक को घटना के तिथि के दिन ही निरीक्षण सुनिश्चित करने का निर्देश दिया. दूसरी तरफ एसपी ने पुलिस द्वारा शराब के मामले में की गई कार्रवाई तथा इस मामलों में वारंट कुर्की के निष्पादन पर संतोष व्यक्त किया.