जिला राजद के राजनीतिक मैदान में चंदन का मास्टर स्ट्रोक

खगड़िया : छात्र राजनीति से ही वक्त-बेवक्त कुछ अलग कर लोगों को अचंभित कर देने वाले युवा राजद के प्रदेश महासचिव गोपाल कृष्ण उर्फ चंदन यादव ने रविवार को राजनीतिक के मैदान में एक मास्टर स्ट्रोक खेलकर स्थानीय राजद में हलचल पैदा कर दिया है. हालांकि पिछले दिनों जब उन्होंने राजद के कुछ वरीय नेताओं का खगड़िया आने की बात कहीं थी तो संगठन के ही कई नेताओं को सहसा विश्वास नहीं हुआ था और साथ ही कार्यक्रम की सफलता पर भी एक प्रश्न चिन्ह लगाया गया था.

लेकिन रविवार को राजद के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ. रघुवंश प्रसाद सिंह के खगड़िया पहुंचने के साथ ही ऐसी तमाम चर्चाओं पर विराम लग गया. पूर्व केन्द्रीय मंत्री सह राजद के राष्ट्रीय उपाध्याय शहर के केएन क्लब में ‘बहिष्कृत हितकारिणी सभा’ में शिरकत करने पहुंचे थे. आयोजन महादलितों को समाज के मुख्यधारा से जोड़ने की पार्टी के एक मुहिम के मद्देनजर किया गया था. राष्ट्रीय उपाध्यक्ष सिंह ने अपने संबोधन में कहा भी कि राजद महादलितों की लड़ाई लड़ेगा और इसकी शुरूआत खगड़िया की धरती से हो चुकी है.

मौके पर बहिष्कृत हितकारिणी सभा के प्रदेश अध्यक्ष पप्पू डोम, राजद के जिलाध्यक्ष संजीव कुमार, नरेश सहनी, सुजय यादव, कृष्णबोल निषाद, रंजीत रमन सहित संगठन के कई अन्य नेता भी मौजूद थे. जिले में आयोजित राजद के राष्ट्रीय उपाध्याय के एक कार्यक्रम में स्थानीय राजद के कई वरीय व चर्चित नेताओं की अनुपस्थित के मायने भी राजनीति गलियारे में निकाले जाने लगे हैं. दरअसल कार्यक्रम की अगुवानी राजद के प्रदेश महासचिव चंदन यादव के द्वारा किया जा रहा था.

माना जा रहा है कि उन्होंने कार्यक्रम के बहाने ही पार्टी में अपने विरोधियों को चकमा देते हुए शीर्ष स्तर पर अपनी पहुंच का प्रदर्शन कर गये. दूसरी तरफ मौके पर जुटाई गई संख्या बल से उन्होंने पार्टी के एक राष्ट्रीय नेता को अपना स्पष्ट संदेश देने में भी सफल रहे हैं. हालांकि राजद के स्थानीय नेताओं के बीच प्रतिस्पर्धा की रेस में खींचातानी की संभावनाएं तो दिख ही रही थी. लेकिन चंदन यादव ने एक मास्टर स्ट्रोक खेल कर समय से पूर्व ही इसका आगाज कर दिया है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*