देख लें इन तस्वीरों को, शराब पीना तो दूर, देखना भी नहीं पसंद करेंगे आप

खगड़िया : शराबबंदी के बाबजूद भी भले ही शराब के शौकिनों के लिए शराब मानों किसी अमृत से शायद कम ना हो.उनकी नजरों में भले ही शराब उनके हर गम की दवा हो.विदेशी ना मिले तो देसी ही सही लेकिन शराब के तलबदारों के लिए शराब तो महज शराब ही है.कानून अपनी जगह पर है और कानून का डर भी अपनी जगह,लेकिन देसी शराब निर्माण की इस तस्वीरों को यदि आप देख लेंगे तो शायद शराब का सेवन तो दूर की बात है आप शराब को देखना तक पसंद नहीं करेंगे.इन तस्वीरों को देखकर ना सिर्फ शराब के प्रति आपको नफरत हो जायेगी बल्कि आप के मुख से थूं..थूं..जैसे शब्द भी निकल आयेंगे.

जी हां…जिले की पुलिस ने सोमवार को सुदूर दियारा क्षेत्र में देसी शराब निर्माण की कुछ भट्ठियां तोड़ने के दौरान शराब बनाने में प्रयुक्त होने वाले सामग्रियों की जो तस्वीर उतारी है वो बेहद ही घृणा पैदा करने वाली है.सड़े…गले…उफ्फ !! इन तस्वीरों को शब्दों में नहीं वयां किया जा सकता.तस्वीरें मन को विचलित करने वाला है और साथ ही यदि आप ऐसे निर्मित शराब का सेवन कर चुके हैं तो अपना माथा पकड़ने से भी पीछे नहीं हटेंगे.

दरअसल मानसी पुलिस को गुप्त सूचना मिली थी दियारा इलाके में होली के मद्देनजर शराब निर्माण की अवैध प्रक्रिया अपनाई जा रही है.इस सूचना के आधार पर पुलिस ने जब मानसी थाना क्षेत्र के मनरा चौर एवं मनरा दियारा इलाके में छापेमारी को पहुंची तो शराब माफिया तो रफू चक्कर हो गये लेकिन वहां शराब की कई भट्ठियां पाई गई. जिसे पुलिस के द्वारा नष्ट किया गया.मौके पर छापेमारी दल ने टिन के दर्जनों बर्तन में पड़े सड़े-गले फलों को भी बर्बाद किया.
गौरतलब है कि इन्हीं सामग्रियों से शराब का निर्माण होना था.लेकिन शराब करोबारी अपने मंसूबे में कामयाब हो पाते उससे पहले ही पुलिस वहां पहुंच गई.छापेमारी दल का नेतृत्व सदर सर्किल इंस्पेक्टर सह ओएसडी बासुकीनाथ झा कर रहे थे. वहीं इसमें मानसी थानाध्यक्ष राघवेन्द्र कुमार सहित कई पुलिसकर्मी शामिल थे.