राष्ट्रीय लोक अदालत में 1028 मामलों का हुआ निष्पादन

खगड़िया : जिले के व्यवहार न्यायालय में शनिवार को राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन किया गया जिसका उद्घाटन जिला जज ने दीप प्रज्ज्वलित कर किया. वहीं कार्यक्रम का संचालन जिला विधिक सेवा प्राधिकार के सचिव धीरज कुमार भाष्कर ने किया. इस अवसर पर अपने संबोधन में जिला एवं सत्र न्यायाधीश सह जिला विधिक सेवा प्राधिकार के अध्यक्ष ज्योतिन्द्र कुमार सिन्हा ने कहा कि लोक अदालत सामाजिक सौहार्द्र, आपसी भाईचारा एवं शांति स्थापित करने का सबसे सशक्त माध्यम है. यह सिर्फ न्यायालय पर से मुकदमों का भार ही खत्म नहीं करता बल्कि लोगों के श्रम, समय एवं अर्थ को भी बचाता है. लोक अदालत में पारित निर्णय की कोई अपील देश के किसी न्यायालय में नहीं होती है.

 

वहीं गोगरी अनुमंडल न्यायालय में भी राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन किया गया. जिसका विधिवत उद्घाटन मुंसिफ जज ने किया. प्राप्त जानकारी अनुसार खगड़िया एवं गोगरी अनुमंडल में कुल 1028 मामलों का निष्पादन आपसी सहमति के आधार पर किया गया. वहीं बैंक, बिजली, बीमा आदि से समझौता के आधार पर तीन करोड़ 39 लाख 87 हजार रुपये की वसूली हुई.

मौके पर परिवार न्यायालय के प्रधान न्यायाधीश निरंजन सिंह, एडीजे अशोक कुमार, शमीम अख्तर, एफटीसी के जज अरुण कुमार झा, जिला विधिज्ञ संघ के अध्यक्ष गजेंद्र प्रसाद महतो, महासचिव शिवजी महतो, एलडीएम एसके राय, पंजाब नेशनल बैंक के वरिष्ठ प्रबंधक श्याम किशोर पांडे आदि मौजूद थे.

 

वहीं मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी सर्वजीत, न्यायिक दंडाधिकारी श्रीप्रकाश, संतोष कुमार दूबे, नंदकिशोर, सिम्मी कुजुर, अंकिता जायसवाल पीठासीन अधिकारी के रूप में कार्यरत थे जबकि पीठ के सहयोग में अधिवक्ता स्मिता कुमारी, अनिल कुमार सिन्हा, रविंद्र कुमार यादव, जयप्रकाश आजाद, कुमार कलानंद, गोपाल प्रसाद सिंह, रविंद्र पासवान, संजय कुमार प्रतिनियुक्त किए गए थे. दूसरी तरफ गोगरी अनुमंडल न्यायालय में आयोजित राष्ट्रीय लोक अदालत के मौके पर अनुमंडल विधिज्ञ संघ के सचिव प्रियव्रत सिंह, अरुण कुमार झा, उचित सिंह आदि मौजूद थे.